- Advertisement -

जेनेरिक दवाइयां न लिखने वालों का लाइसेंस हो रद: शांता

1

- Advertisement -

धर्मशाला। सांसद और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार का कहना है कि जो डॉक्टर जेनेरिक दवाइयां नहीं लिख रहे हैं, उनके लाइसेंस रद किए जाने चाहिए। मंगलवार को धर्मशाला में नेशनल हेल्थ मिशन के तहत जिला स्तरीय विजिलेंस एंड मोनिटरिंग कमेटी की बैठक आयोजित की गई । कांगडा संसदीय क्षेत्र के सांसद शांता कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में स्वास्थ्य अधिकारियों ने जिला भर में स्वास्थ्य विभाग की ओर से संचालित की जा रही गतिविधियों व कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी । शांता कुमार ने स्वास्थ्य अधिकारियों से पूछा कि जो डॉक्टर जेनेरिक दवाइयां नहीं लिखते हैं, उन पर क्या कार्रवाई की जा रही है । इसके उपरांत मीडिया से बातचीत में शांता कुमार ने कहा कि जो भी डॉक्टर जेनेरिक दवाइयां नहीं लिखता है, उसका लाइसेंस रद किया जाना चाहिए।

jenrickशांता कुमार ने कहा कि मेरा आरोप है कि मल्टी नेशनल कंपनियों का अरबों रुपए का साम्राज्य है, उसके लालच में डॉक्टर जेनेरिक दवाइयां नहीं लिखते। ऐसे डॉक्टरों को मल्टी नेशनल कंपनियों द्वारा सुविधा दी जाती हैं, विदेश भ्रमण करवाया जाता है और कमीशन दी जाती है, जो कि देश के गरीब वर्ग से अन्याय है। शांता कुमार ने कहा कि जिला कांगडा में स्वास्थ्य विभाग अपनी भूमिका अच्छी तरह निभा रहा है, जहां कमी होगी, उसे विभाग पूरा करने की कोशिश करेगा।कांगडा संसदीय क्षेत्र के सांसद शांता कुमार ने कहा कि आज भी देश में 30 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिन्हें दो वक्त की रोटी नहीं मिलती, वो दवाई क्या खरीदेंगे, ऐसे में इतना किया जाए कि कम से कम दवाई तो सस्ती हो। उन्होंने कहा कि जेनेरिक व ब्रांडेड दवाइयों में 1 से 20 रुपए का अंतर है । उन्होंने कहा कि जेनेरिक दवाइयों के लिए मैं पिछली सरकार में भी लड़ता रहा और वर्तमान में भी लड़ रहा हूं।

 

- Advertisement -

1 Comment
  1. shaila thakur says

    very nice शांता जी हमेशा सही बात के पक्ष में होते हैं।

Leave A Reply