Advertisements

Shimla City में एक फुट बर्फ, बिजली-पानी की Supply ठप

- Advertisement -

शिमला। बर्फ के दीदार को लेकर शिमला आए सैलानियों के  लिए शनिवार की सुबह अच्छी नहीं रही। जब लोगों ने बिस्तर छोड़ा तो उनका बाहर निकलना भी मुश्किल सा हो गया। आलम यह है कि अकेले शिमला शहर में ही एक फुट के आसपास ताजा बर्फ गिरी है। रिज मैदान पूरी तरह से सफेद चांदी में लिपट गया। साथ ही शहर के साथ लगते इलाकों में भी बर्फ परेशानी का सबब बन गई है। सुबह-सुबह शिमला की लाइफलाइन बुरी तरह से हांफी हुई नजर आई है।

  • ऊपरी शिमला को जाने वाले सभी रास्तें बंद
  • होटलों में कैद हुए पर्यटक

सैलानी तो होटलों के कमरों से बाहर निकल पाए साथ ही स्थानीय लोगों की दिनचर्या पर भी खासा असर पड़ा है।manali सुबह सवेरे राजधानी को आने वाले दूध-ब्रेड की सप्लाई नहीं पहुंच पाई। इसके साथ ही बिजली पानी ने भी मुश्किल वक्त में लोगों का साथ छोड़ दिया है। पानी की सप्लाई ठप है और बिजली की आपूर्ति भारी बर्फबारी के बाद प्रभावित हुई है। लोग अपने काम धंधे पर सुबह सवेरे नहीं निकल पाए। चारों ओर बर्फ ही बर्फ है। वहीं शिमला में जनजीवन इससे बुरी तरह से  प्रभावित हुआ है। लोगों को  ढेरों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। राजधानी के अधिकतर इलाकों में बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई है। पिछले 12 घंटों के दौरान शिमला शहर और ऊपरी शिमला के इलाकों भारी बर्फ़बारी हुई है। नारकंडा, कुफ़री, खड़ापत्थर , चौपाल तथा मशोबरा इलाकों में 10 से 50 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई है। आज सुबह राजधानी में दफ्तर जाने वालों से लेकर दुकनदारों को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शहर के अलग-अलग इलाकों में पेड़ गिरने से सड़कें बंद हुई हैं, वहीं छोटा शिमला के ब्रोकहोस्ट क्षेत्र में मकान पर पेड़ गिरने की भी खबर है। हालांकि किसी प्रकार का जानी नुकसान नहीं है, लेकिन सामान्य जनजीवन अस्तव्यस्त हुआ है। ऊपरी शिमला को जाने वाले सभी मार्ग अवरुद्ध हैं। वहीं सेब बागवानों के लिए भी ताज़ा बर्फ सफ़ेद सोना साबित हो रही है।

 ऊपरी शिमला पूरी तरह से जाम
पहले भारी हिमपात ने लोगों को मुश्किल में लाकर खड़ा कर दिया है। ऊपरी शिमला पर जनजीवन पूरी तरह से ठहर गया है।shimla6 यहां आवाजाही पूरी तरह से ठप हो गई है। रास्ते बंद है। गाड़ियों के पहिए जाम हैं। एक जगह फंसे लोग आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। यहीं नहीं नए साल का जश्न और छुट्टियां बिताने शिमला पहुंचे पड़ोसी राज्यों के पर्यटक भी अब खुद को मुश्किल में घिरा हुआ पा रहे हैं। बताया जा रहा है कि खड़ापत्थर सहित रोहड़ू, चौपाल और दूसरे इलाकों में दर्जनों गाड़ियां बर्फ के आगोश में आकर फंस गई हैं। उधर, सफेद आफत के बाद प्रशासन भी लोगों से सावधानी बरतने की अपील कर रहा है।

आफतः कुल्लू-मनाली Highway बंद

कुल्लू।  घाटी में इस साल की पहली बर्फबारी से पूरी घाटी सफेद चांदी से चमक उठी है। उधर जिला प्रशासन ने पर्यटको से रोहतांग और जलोड़ी जोत पर न जाने की अपील की है। गत दिवस से  लगातार हो रही बर्फबारी से कुल्लू-मनाली हाई-वे यातायात के लिए बंद हो गया है और घाटी शीतलहर की चपेट आ गई है।

  •  कुल्लू घाटी में भारी बर्फबारी
  • प्रशासन ने जारी की चेतावनी, रोहतांग-जलोड़ी जोत ने जाए सैलानी

बर्फबारी से जहां किसानों और बागवानों ने राहत की सास ली है वहीं कुल्लू मनाली आने बाले पर्यटक भी बर्फबारी से खुश है और बर्फबारी का खूब आंनद ले रहे है। वहीं, भारी बर्फबारी से रोहतांग दर्रे सहित राहनीनाला, मढ़ी सहित धुंधी जोत, पतालसू जोत, इंद्र किला, लदाखी पीक, सेवन सिस्टर पीक, हनुमान टिब्बा मकरवेद और शिकरवेद की पहाडिय़ों, भृगु और दशौहर की पहाडियों, नगर की पहाड़ियां फोजल जोत, मनीकरण जोत, जलोड़ी जोत सहित सभी पहाड़ियां में भारी बर्फ की चांदी से चकम उठी है।

कहीं राहत और कहीं आफत

इस बर्फबारी के बाद जहां किसान, पर्यटक खुश है वहीं पर आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में यातायात अवरुद्ध होने के कारण लोगों के भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिला में जिन लोगों के घर पिथले दिनों हुए अग्निकांग में जल गए थे उनको भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

दो दिन और रहेगा मौसम खराब

वहीं मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दो दिनों तक भारी बर्फबारी की चेतावनी दी है जिसके चलते जिला प्रशासन ने पर्यटकों से रोहतांग और जलोड़ी जोत पर न जाने की अपील की है। ताकि कोई पर्यटक किसी परेशानी में फंसे। उधर गत दिव, बर्फबारी के बीच फंसे सौ से अधिक पर्यटकों के प्रशासन ने रेस्कयू करके सुरक्षित निकाल लिया है।

Advertisements

- Advertisement -

1 Comment
  1. Rajesh Sharma says

    ठंडी… और आफत…

%d bloggers like this: