Advertisements

सावधान! अंधा बन सकता है आपका स्मार्टफोन और लैपटॉप

आंखों की रोशनी को प्राभावित करती है ब्लू लाइट

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। अगर आप स्मार्टफोन और लैपटॉप का अधिक उपयोग करते हैं तो सावधान हो जाइए।हाल ही में हुई एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि स्मार्टफोन और अन्य डिजिटल डिवाइस से निकलने वाली ब्लू लाइट आंखों की रोशनी को बुरी तरह से प्रभावित करते हुए आपको अंधा बना सकती है। इस स्टडी में पता चला है कि ब्लू लाइट आंखों के रेटिना में मौजूद अहम मॉलिक्यूल्स को सेल किलर में तब्दील कर देती है। जिसके कारण यह स्थिति मैक्यूलर डिजेनरेशन बीमारी जैसी हो जाती है।

बता दें कि मैक्यूलर डिजेनरेशन आंखों की लाइलाज बीमारी है, जो आमतौर पर 50 से 60 साल की उम्र में लोगों को होती है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ टोलिडो में हुई इस स्टडी से जुड़े अस्सिटेंट प्रोफेसर अजित करुणारत्ने ने बताया, ‘हम डिजिटल डिवाइस की ब्लू लाइट के एक्सपोजर में रहते हैं, जिसे आंखों के कॉर्निया और लैंस, ब्लॉक या रिफ्लेक्ट नहीं कर सकते।

‘ प्रोफेसर अजित ने कहा कि, ‘यह सब जानते हैं कि ब्लू लाइट हमारे रेटिना को नुकसान पहुंचाती है और देखने की क्षमता को कम करती है। हमारे परीक्षण में यह सामने आया है कि यह कैसे होता है। उम्मीद है कि इस परीक्षण के आधार पर मैक्यूलर डिजेनरेशन के इलाज के लिए नए उपचार ढूंढे जा सकेंगे।’ वहीं एक रिसर्चर ने बताया कि ब्लू लाइट से रेटिना-उत्पन्न जहरीलापन यूनिवर्सल है। यह सिर्फ आंखों के ही नहीं, बल्कि किसी भी तरह के सेल को मार सकता है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: