पहला सुपरफूड यानी पालक

0
जाड़ों के मौसम में जो पत्तेदार सब्जियां आती हैं उनमें सबसे ज्यादा पालक का प्रयोग होता है । पालक अनेक तरह के भोज्य पदार्थों में प्रयोग किया जाता है पर इसके औषधीय गुण भी हैं। पालक को पहला सुपरफूड भी कहा जाता है। इससे शारीरिक ऊर्जा तो मिलती ही है वजन कम करने में भी यह आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी है। खाना खाने की  गहरी इच्छा को हेडोनिक हंगर के नाम से जाना जाता है। यह खासकर उन लोगों को अधिक होता है जो लोग फास्ट फूड्स एवं मिठाइयों का अधिक सेवन करते हैं। जबकि पालक की पत्तियों में मौजूद थायलेकोइड्स पाचन को ठीक करता है एवं खाने की प्रबल इच्छा को रोकता है
  • पालक पाचन की प्रक्रिया को संतुलित कर आंतों में मौजूद हार्मोन्स को पर्याप्त समय देता है ताकि वे मस्तिष्क को समय पर खाने की इच्छा से रोकने का सिग्नल दे सकें।
  • वैज्ञानिकों का यह मानना है कि पालक की पत्तियां हेडोनिक हंगर को 95% तक रोक देती हैं एवं वजन को 45 प्रतिशत तक कम करने में मददगार होती हैं। पालक को आप निम्न प्रकार से प्रयोग कर सकते हैं।
  • पालक का शेक बनाकर प्रातः काल प्रयोग करें।

  • पालक का साग बनाकर इसे नियमित रूप से भोजन में ले सकते हैं।
  • खाने में सलाद के रूप में पालक की पत्तियों का प्रयोग कर सकते हैं।
  • पालक की करी बनाकर इसे लंच या डिनर में ले सकते हैं।
  • आधा कप हरी पालक की पत्तियां आपको पूरे दिन 5 बार लिए गए फलों एवं सब्जियों के बराबर ऊर्जा देती हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply