Advertisements

शीतकालीन सत्र तक के लिए टला तीन तलाक बिल, राफेल को लेकर संसद में हंगामा

हंगामे के कारण दो बार स्थगित करनी पड़ी राज्यसभा की कार्यवाही

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। तीन तलाक बिल को शुक्रवार को ही राज्यसभा में पारित करने का अमित शाह का फॉर्मूला कामयाब नहीं हो पाया। बिल को अब शीतकालीन सत्र में पेश किया जा सकता है। हालांकि सरकार के पास इस पर अध्यादेश लाने का भी विकल्प है। मॉनसून सत्र के आखिरी दिन कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। 2.30 बजे जब राज्यसभा की कार्यवाही फिर शुरू हुई तो सभापति ने साफ कर दिया कि इस बिल को आज नहीं लिया जाएगा।

राफेल विमान सौदे की संयुक्त संसदीय समिति (JPC) से जांच कराने की मांग कर रहे कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही एक के बाद एक दोपहर 2.30 बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी। सुबह सदन की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों ने इस मुद्दे पर हंगामा शुरू कर दिया। उपसभापति हरिवंश ने सुबह के सत्र का संचालन किया और उनके आसन संभालने पर सदस्यों ने उनका स्वागत किया।

कांग्रेस के नोटिस को मंजूरी नहीं मिली

इससे पहले UPA की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कहा कि तीन तलाक बिल पर कांग्रेस का रुख एकदम स्पष्ट है। कांग्रेस एवं कुछ अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने राफेल विमान सौदे में कथित अनियमितता को लेकर केंद्र सरकार से जवाब देने की मांग करते हुए संसद परिसर में सोनिया गांधी के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। पार्टी के सदस्यों ने इस मामले में संयुक्त संसदीय समिति के गठन की भी मांग की। कांग्रेस सदस्यों ने लोकसभा में यह मुद्दा उठाते हुए आसन के समीप आकर नारेबाजी की।

इस मुद्दे पर शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सदस्यों ने सदन से वॉकआउट भी किया। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने आरोप लगाया कि राफेल सौदा एक बड़ा घोटाला है और उन्होंने इसकी जेपीसी से जांच कराने की मांग की। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि कहा कि उन्होंने नियम 267 के तहत एक नोटिस दिया है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: