- Advertisement -

विरोध के बीच CM योगी ने विधानसभा में पेश किया UPCOCA बिल

0

- Advertisement -

लखनऊ। Uttar Pradesh Control Of Organized Crime Act यानी UPCOCA। अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए बनाया गया यह कानून संसद में पेश होने से पहले ही विवादों में घिर गया है। विवादों और विरोध के बीच यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को UPCOCA बिल को विधानसभा में पेश किया। बता दें कि UPCOCA का मसौदा बीजेपी ने तैयार कर इसे कानूनी रूप देने के अपने इरादे जाहिर किए तो इस बिल का पुरजोर विरोध शुरु हो गया। विपक्षी दलों व मुस्लिम समुदाय ने इस बिल को समुदाय विशेष के खिलाफ बताते हुए कहा कि यह एक खास समुदाय को टारगेट करने का प्रयास है। वहीं बसपा सुप्रीमो मायावति ने इसे दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के दमन के लिए इस्तेमाल होने वाला कानून बताते हुए इसका विरोध किया है। हालांकि यह बात अलग है कि मायावति 2007 में कानून लाना चाहती थीं, लेकिन केंद्र की ओर से उन्हें मंजूरी नहीं मिली।

राज्य के गृह सचिव स्वयं करेंगे UPCOCA के तहत आते आपराधिक मामलों की निगरानी

बता दें कि UPCOCA में संगठित अपराध व गुंडागर्दी के खिलाफ कार्रवाई पर जोर दिया गया है। संगठित अपराध की श्रेणी में ठेकेदारी में की जाने वाली गुंडागर्दी व रंगदारी को भी शामिल किया गया है। इसके साथ ही गैर कानूनी रूप से कमाई गई संपत्ति भी इस कानून के तहत शामिल की जाएगी। इस कानून के तहत ऐसी संपत्ति को जब्त भी किया जा सकता है। इसके साथ ही UPCOCA के तहत अपराधियों को जल्द से जल्द सजा दिलवाए जाने को लेकर विशेष अदालतों का भी गठन किया जाएगा। UPCOCA के तहत आने आपराधिक मामलों की निगरानी राज्य के गृह सचिव स्वयं करेंगे।

यह भी पढ़ें: प्रद्युम्न मर्डर केस में बड़ा फैसला, बालिग की तरह चलेगा आरोपी छात्र पर केस

- Advertisement -

%d bloggers like this: