VC का औचक निरीक्षणः परीक्षा केंद्र से नदारद मिले शिक्षक, Research scholar दे रहे थे Duty

1

- Advertisement -

शिमला।  हिमाचल विश्वविद्यालय के वीसी प्रो. राजेंन्द्र सिंह चौहान ने आज पीजी परीक्षाओं के परीक्षा केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने परिसर का भी दौरा किया। इस दौरान वीसी ने पाया कि परीक्षा केंद्रों से ड्यूटी पर लगाए गए कुछ शिक्षक नदारद थे और उनके स्थान पर रिसर्च स्कॉलर ड्यूटी दे रहे थे। इस पर वीसी खफा हुए और रिसर्च स्कॉलर को भी लताड़ लगाई और शिक्षकों को भी हिदायत दी। साथ ही परीक्षा केंद्र अधीक्षक और उप-अधीक्षक को भी चेतावनी दी।

  • रिसर्च स्कॉलर को लताड़ लगाई और शिक्षकों को भी दी  हिदायत 

वीसी ने शिक्षकों को निर्देश दिए कि वे सभी परीक्षा केंद्रों में अधीक्षक व उप अधीक्षक के अलावा केवल शिक्षक ही ड्यूटी दें। उन्होंने कहा कि जब शिक्षक को ड्यूटी देनी है तो वह ही दें। वे अपने स्थान पर रिसर्च स्कालर  को ड्यूटी पर नहीं लगा सकता। उन्होंने हिदायत दूसरी भविष्य में यदि ऐसा पाया गया तो संबंधित शिक्षक और अन्य संबंधित स्टाफ के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।

डीन ऑफ स्टडीज से इजाजत लेना जरूरी

वीसी ने कहा कि यदि किसी कारणवश शिक्षक ड्यूटी पर नहीं आ सकते तो वे अपने स्थान पर रिसर्च स्कॉलर  को ड्यूटी पर भेज सकते हैं, लेकिन इसके लिए पहले डीन ऑफ स्टडीज से इजाजत लेना जरूरी है। वहां से इजाजत के बाद रिसर्च स्कॉलर को ड्यूटी पर लगाया जा सकता है। इसलिए शिक्षकों को इस पर सबसे ज्यादा ध्यान देना है और यदि भविष्य में किसी शिक्षक के स्थान पर रिसर्सच स्कॉलर ड्यूटी देते पाए गए तो कार्रवाई की जाएगी।

  • अधीक्षक व उप-अधीक्षक के अतिरिक्त केवल प्राध्यापक ही ड्यूटी दें

स्नातकोत्तर कक्षाओं की परीक्षा केंद्रों का विश्वविद्यालय परिसर में दौरा किया। उन्होंने अधिष्ठाता अध्ययन को निर्देश दिए कि सभी परीक्षा केंद्रों में अधीक्षक व उप-अधीक्षक के अतिरिक्त केवल प्राध्यापक ही ड्यूटी दें।  कुलपति ने निरीक्षण के दौरान पाया कि कुछ परीक्षा केंद्रों में शोध छात्र ड्यूटी दे रहे हैं, जो कि उचित नहीं है। उन्होंने बताया कि यदि भविष्य में कोई शोध छात्र परीक्षा ड्यूटी देते हुए पाया गया तो उस प्राध्यापक जिसकी ड्यूटी है तथा संबंधित अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।  कुलपति ने यह भी सुझाया दिया कि यदि परीक्षा केंद्र के नियुक्त किए गए प्राध्यापक को किसी भी स्थिति में अनुपस्थित होना है तो उस स्थिति में अधिष्ठाता अध्ययन से आज्ञा लेकर शोध छात्र को ड्यूटी पर लगाया जा सकता है।

- Advertisement -

Leave A Reply