Sehwag के बोल, अगर कप्तान Kohli की चलती तो मैं होता Team India का कोच

0

Virender Sehwag: मेरठ। भारतीय क्रिकेट टीम में कोच पद को लेकर चल रहे विवाद में एक बार फिर नया मोड़ आया है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने एक बयान से सबको चौंका दिया है। मेरठ में एक कार्यक्रम के दौरान सहवाग ने कहा कि भले ही कप्तान टीम का सर्वेसर्वा होता है, लेकिन कई मामलों में उसकी भूमिका केवल राय देने वाली होती है। उन्होंने कहा कि कप्तान विराट कोहली चाहते थे कि मैं भारतीय टीम का कोच बनूं और उनके संपर्क करने के बाद ही मैंने आवेदन किया था। कप्तान के समर्थन के बावजूद मैं भारतीय टीम के कोच नहीं बन पाया। 

Virender Sehwag: कई मामलों में अंतिम निर्णय कप्तान का नहीं होता

पूर्व कोच अनिल कुंबले और कप्तान कोहली के बीच मतभेदों के चलते कुंबले ने इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की तीन सदस्यीय सलाहकार समिति ने नया कोच चुनना था। कोच पद की दौड़ में सहवाग भी शामिल थे लेकिन रवि शास्त्री को भारतीय टीम को नया कोच नियुक्त किया गया। सहवाग ने कहा कि विराट कोहली चाहते थे कि मैं भारतीय टीम का कोच बनूं, जब कोहली ने मेरे साथ संपर्क किया तो उसके बाद ही मैंने आवेदन किया था। लेकिन, मैं कोच नहीं बना, ऐसे में आप यह कैसे कह सकते हैं कि हर फैसले में कप्तान की नहीं चलती है। उन्होंने कहा कि कप्तान का टीम के फैसलों पर प्रभाव होता है लेकिन कई मामलों में अंतिम निर्णय कप्तान का नहीं होता। सहवाग के बारे में कहा गया था कि उन्होंने केवल एक पंक्ति में कोच पद के लिए आवेदन किया था, जिसपर इस विस्फोटक बल्लेबाज ने कहा कि मैंने कोच पद की सभी औपचारिकताएं की थीं, एक लाइन वाली बात मीडिया के दिमाग की उपज थी। 

यह भी पढ़ें – Rohit Sharma की तूफानी पारी से आज भी खौफ खाती है Sri Lanka

You might also like More from author

Leave A Reply