- Advertisement -

मां बनने के लिए कौन सी उम्र है सही, जानें

20 साल की उम्र से पहले मां बनना सही नहीं

0

- Advertisement -

मातृत्व एक ऐसी जिम्मेदारी है, जिसे निभाने की बात सुनते ही आज के जमाने की कई लड़कियां घबरा जाती हैं। यह सिर्फ लड़कियों या महिलाओं की ही बात नहीं है बल्कि कई पुरुष भी ऐसा ही सोचते हैं। शहरी क्षेत्रों के ज्यादातर कपल्स शादी के कई साल बाद तक सिर्फ इसलिए पेरेंटहुड को नहीं अपनाते। उन्हें लगता है कि वे अभी इस जिम्मेदारी के लिए तैयार नहीं हैं। लेकिन पति-पत्नी दोनों की हेल्थ के हिसाब से देखा जाए तो बच्चे होने का भी एक आदर्श समय होता है।

-सही यही है कि 20 साल की उम्र से पहले किसी भी लड़की को मां नहीं बनना चाहिए। WHO के मुताबिक, दुनिया भर में प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली जटिलताओं से होने वाली मौतों में 15 से 19 साल की लड़कियां सबसे ज्यादा होती हैं। अगर पहली बार मां बनने वाली लड़की की उम्र 20 साल से कम है तो उसके होने वाले बच्चे की मौत का जोखिम कई गुना बढ़ जाता है। भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक तौर पर भी 20 साल से कम उम्र में माता-पिता बनना सही नहीं, क्योंकि बच्चे के पालन-पोषण के लिए परिपक्व समझ की जरूरत होती है।

-अगर आपकी शादी 20 से 25 साल के बीच होती है तो आप शादी के तुरंत बाद बच्चे की प्लानिंग कर सकती हैं, क्योंकि यह गर्भधारण का सबसे आदर्श समय है। इन सालों में मां के एग्स की क्वॉलिटी सबसे अच्छी होती है। साथ ही पुरुष के स्पर्म भी तुरंत परिपक्व होते हैं। इसी के साथ 25 साल की उम्र आते-आते कपल्स आर्थिक तौर पर भी मजबूत हो जाते हैं और बच्चे की जिम्मेदारी उठा सकते हैं।

-25 से 30 साल के बीच शादी होती है तो आप बच्चे की प्लानिंग कर सकते हैं। हालांकि स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो यह उम्र आते-आते महिलाओं की फर्टिलिटी कम होने लगती है और प्रेग्नेंट होने के चांसेज भी कम होने लगते हैं। जहां तक पुरुषों के स्पर्म क्वॉलिटी का सवाल है तो यह पूरी तरह से उनके लाइफस्टाइल पर निर्भर करता है। अगर पुरुष शराब और सिगरेट का सेवन करता है या उन्हें कोई स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या है तो इसका उनके स्पर्म पर भी असर पड़ता है।

-अगर आपकी शादी 30 से 35 साल के बीच होती है तो आपको बिना किसी देरी के तुरंत बच्चे की प्लानिंग कर लेनी चाहिए क्योंकि महिलाओं के लिए यह उम्र आते-आते प्रेग्नेंट होने के चांसेज ज्यादा घटने लगते हैं। बच्चे की प्लानिंग करने से पहले इस बात की जांच कर लें कि आप और आपका पार्टनर दोनों ही पेरेंट्स बनने के लिए शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं या नहीं। स्टडीज की मानें तो इस उम्र में पिता बनने पर स्पर्म की क्वॉलिटी ठीक नहीं रहती जिस वजह से होने वाले बच्चे में कई तरह की बीमारियां जैसे- ऑटिज्म का खतरा रहता है। इस उम्र में शादी करने के बाद और बच्चे की प्लानिंग करने से पहले अपनी और अपने पार्टनर की जांच करवा लें ताकि यह पता चल सके कि आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देने के लिए पूरी तरह स्वस्थ हैं या नहीं। इस उम्र में अगर आप बच्चे को जन्म देने के बारे में सोचते हैं तो होने वाले बच्चे में डाउन सिंड्रोम और ऑटिज्म का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही गर्भपात का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है।

- Advertisement -

%d bloggers like this: