Advertisements

Asha Kumari बोलीं, फिर रो क्यों रहे हो Jai Ram Ji… जो भी CM बना, युवा ही बना

- Advertisement -

धर्मशाला। कांग्रेस सदस्य आशा कुमारी ने कहा कि सीएम रिलीफ फंड को लेकर जिस तरह से सत्तापक्ष शोर कर रहा है, वह सही नहीं है। जब वे सरकार में थे तो वे भी इस फंड में पैसा देते आए हैं। इस फंड के लिए उद्योगपतियों से मदद ली जाती है और मित्रों से मदद ली जाती है। इस पर सीएम ने कहा कि वे भी मदद ले रहे हैं। इस पर आशा कुमारी बोलीं कि फिर रो क्यों रहे हो। इस पर सदन में हंसी का ठहाका लगा।

राज्यपाल के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर हो रही चर्चा के दौरान आशा कुमारी ने कहा कि आज केंद्र की मोदी सरकार, विपक्ष में रहते जिन फैसलों का विरोध करती थी, उन्हीं को लागू कर रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने मनरेगा, आधार और एफडीआई का विपक्ष में रहते डटकर विरोध किया था और सत्ता में आने पर इन्हें जारी रखा और ये सब योजनाएं ठीक लगी। यही नहीं एफडीआई में तो यह सरकार एक कदम और आगे बढ़ रही है। राज्य में बनी बीजेपी की सरकार भी ऐसा ही करेगी।

कुछ समय बाद सरकार अपनाएगी पूर्व कांग्रेस सरकार की ही नीतियां  

उन्होंने कहा कि नई सरकार पूर्व कांग्रेस सरकार की नीतियों को बदलने की बात कर रही है और जो फैसले लिए हैं, उनको रिव्यू करने की बात कर रही है, लेकिन कुछ समय बाद यह सरकार उन्हीं नीतियों को अपनाएगी, जो वीरभद्र सिंह सरकार की थी। उन्होंने कहा कि यह सरकार केंद्र की तरह करेगी और इस सरकार का भविष्य है कि -रोल बैक, गो बैक एंड फॉलो व्हाट कांग्रेस हैज डन- है।

आशा कुमारी ने अभिभाषण लिखने वाले अफसरों पर भी बरसी और कहा कि लगता नहीं है कि किसी ने इस पर दिमाग लगाया है। यह राज्यपाल की भी अवमानना है। उन्होंने कहा कि इसका अंग्रेजी अनुवाद भी ठीक नहीं किया है और ऐसी ट्रांसलेशन तो मैट्रिक पास भी नहीं करता। उन्होंने कहा कि अभिभाषण में पर्यटन को लेकर जो लिखा है वह भी ठीक नहीं लिखा है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार अच्छा करेगी तो स्वागत करेंगे और यदि हमारी योजनाओं के नाम बदल कर, तोड़ मरोड़कर आगे जाने का प्रयास करेंगे तो विरोध होगा।

हिमाचल को बेटियों पर गर्व है

आशा कुमारी ने सदन में कहा कि आज हिमाचल को बेटियों पर गर्व है। मनाली की बेटी आंचल ठाकुर ने अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग में कांस्य पदक जीता है। यह गर्व की बात है। उन्होंने आगे कहा कि यह भी प्रदेश के इतिहास में पहली बार हुआ है कि यहां की बेटी किसी हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस बनी हैं। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की बेटी अभिलाषा कुमारी कल ही हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस बनी हैं और हिमाचल के लिए गर्व की बात है।

  • आशा ने दी सभी सीएम की उम्र की जानकारी 

सदन में आशा कुमारी ने युवा सीएम के नाम पर कही जा रही बातों को लेकर भी अपनी बात रखी। साथ ही कहा कि विपक्ष के सदस्यों ने इस संबंध में जो कहा है, उसका गलत मतलब सत्तापक्ष के सदस्य निकाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि डॉ. वाईएस परमार जब पहली बार सीएम बने थे तो वे 45 वर्ष के थे। वहीं, ठाकुर रामलाल जब सीएम बने थे तो उनकी उम्र 48 वर्ष थी।

उन्होंने कहा कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता शांता कुमार जब सीएम बने थे तो उनकी उम्र 42 वर्ष की थी और हैरानी की बात है कि बीजेपी के लोग उन्हें ही भूल गए। उन्होंने आगे कहा कि वीरभद्र सिंह 49 वर्ष की आयु में राज्य के सीएम बने थे। जबकि प्रेम कुमार धूमल 53 वर्ष की उम्र में सीएम बने थे और अब जयराम ठाकुर भी 53 वर्ष की उम्र में इस कुर्सी पर विराजमान हुए हैं। उन्होंने कहा कि यह हिमाचल का इतिहास है कि यहां पर जो भी सीएम बना है, वह युवा ही बना है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: