- Advertisement -

आईएएस अधिकारी यौन शोषण मामले: महिला आयोग ने दोनों अधिकारियों को जारी किया नोटिस

Women's Commission issued notice to both officials in IAS officer sexual harassment case

0

- Advertisement -

फतेहाबाद। महिला आईएएस अधिकारी द्वारा सीनियर ऑफिसर पर यौन शोषण का आरोप लगाने के मामले में राज्य महिला आयोग ने स्वतः संज्ञान लेते हुए दोनों अधिकारियों को नोटिस जारी किया। महिला आयोग की चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन ने बताया कि इस नोटिस में दोनों अधिकारियों को दोपहर 2 बजे पंचकूला स्थित महिला आयोग कार्यालय में पेश होकर अपनी बात रखने के लिए कहा गया है।
पशुपालन एवं डेयरी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) सुनील कुमार गुलाटी पर उनके ही विभाग में तैनात एक महिला आईएएस अधिकारी ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। उन्होंने करियर खराब करने व देर तक ऑफिस में बैठाए रखने की भी बात कही है, साथ ही अपनी जान को खतरा बताया है। इस संबंध में उन्होंने राष्ट्रपति और केंद्र सरकार की ई-मेल पर शिकायत भेजी है और डीजीपी से भी सुरक्षा की मांग की है। इसका खुलासा उन्होंने खुद अपनी फेसबुक पोस्ट में किया है। 2014 बैच की आईएएस अधिकारी 9 मई को ही इस विभाग में आई हैं। इससे पहले वह सिरसा के डबवाली में एसडीएम थीं।
1984 बैच के आईएएस अधिकारी  सुनील कुमार गुलाटी ने आरोपों को निराधार बताया है। पशुपालन एवं डेयरी विभाग एसीएस सुनील कुमार गुलाटी ने कहा कि फील्ड के अफसरों को गाड़ी, स्टाफ और मकान जैसी सभी सुविधाएं मिलती हैं। मुख्यालय पर ऐसा नहीं हो पाता इसलिए वह तनाव में आ जाता है। मैंने स्टाफ को कहा भी था कि इन्हें जो चाहिए, वह दे दिया जाए। वे सीएम से अप्रूव हो चुकीं फाइलों पर भी आपत्ति लगा रही हैं। आईएएस अधिकारी 24 घंटे के लिए होता है। उन्हें विभाग में जॉइन किए एक माह हुआ है। एसीआर कम से कम 3 माह की लिखी जाती है। उनकी नौकरी 4 साल की हुई है। मेरा 34 साल का अनुभव है। पहले कोई शिकायत नहीं आई। सोशल मीडिया पर जाने के बजाय अपने उच्चाधिकारियों को बताना चाहिए। मैं सरकार को लिखूंगा कि इनका ट्रांसफर किया जाए। वहीं, सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह मामला चंडीगढ़ एरिया का है। महिला अधिकारी पुलिस में शिकायत दें। इसकी निष्पक्षता से जांच की जाएगी। जांच में जो भी दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

- Advertisement -

%d bloggers like this: