×

अदभुतः कांगड़ा-बैजनाथ में घृत मंडल से सजे मंदिर

अदभुतः कांगड़ा-बैजनाथ में घृत मंडल से सजे मंदिर

- Advertisement -

कांगड़ा/ बैजनाथ। वास्तव में अदभुत ही है कांगड़ा व बैजनाथ मंदिरों में बने घृत मंडल। तभी तो मक्खन के श्रृंगार को देखने के भक्तों की भीड़ मंदिरों में उमड़ पड़ी है। विश्वविख्यात बज्रेश्वरी देवी मंदिर कांगड़ा के मंदिर में हर वर्ष की भांति इस बार भी 7 दिवसीय घृत मंडल पर्व का आयोजन किया गया है। शक्तिपीठ माता बज्रेश्वरी देवी मंदिर के सबसे बड़े पर्व को लेकर माता का दरबार श्रद्धालुओं की भीड़ से जहां भर गया है। वहीं माता की पिंडी पर हुए मक्खन के श्रृंगार को देखने के लिए देश के कोने-कोने से श्रद्धालु पहुंच गए हैं।


  • मक्खन के श्रृंगार को देखने के भक्तों की उमड़ी भीड़

ऐतिहासिक धार्मिक उत्सव को लेकर बज्रेश्वरी माता का मंदिर दुल्हन की तरह सजा है। ऐतिहासिक धार्मिक घृत पर्व मान्यता है कि मकर सक्रांति से लेकर एक सप्ताह तक इन मंदिरों में मौजूद पिंडी के ऊपर कई क्विंटल मक्खन का लेप चढ़ाया जाता है। हजारों की संख्या में श्रद्धालु इस अद्भुत आयोजन का दर्शन करने कांगड़ा पहुंच रहे हैं।

उधर, बैजनाथ में भी मकर संक्रांति के अवसर पर हर वर्ष की भांति विश्व प्रसिद्ध शिव मन्दिर में इस वर्ष भी घृत मंडल चढ़ाया गया जिसमें लगभग 3 किवंटल शुद्ध घी का प्रयोग किया गया। इस घृत मंडल को तैयार करने के लिए इस घी को 108 बार पानी से धोकर मक्खन बनाया गया। इस घृत मंडल को 8 दिनों के बाद शिवलिंग से उतारकर श्रद्धालुओं में प्रसाद के रूप में बांटा जाएगा। लोग इस प्रसाद को संभाल कर रखते हैं ऐसा माना जाता है कि इस प्रसाद रूपी घी को पुराने चर्म रोगों पर लगाने से रोग मिट जाता है।

मन्दिर के पुजारी सुरिन्द्र आचार्या तथा धर्मेन्द्र शर्मा ने बताया कि सर्वप्रथम भगवान का रूद्र अभिषेक किया जाता है उसके पश्चात भगवान को व्रुज पत्र से ढांप दिया जाता है उसके ऊपर मक्खन का लेप किया जाता है जिसे फिर विभिन्न प्रकार के मेवों से सजाकर श्रृंगार किया जाता है। यह घृत मंडल लगभग 8 दिन शिवलिंग पर चढ़ा रहता है।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है