Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

कत्थक में विशिष्ट योगदान के लिए इला पांडे को शिखर सम्मान

कत्थक में विशिष्ट योगदान के लिए इला पांडे को शिखर सम्मान

- Advertisement -

शिमला। सीएम Virbhadra Singh ने आज यहां हिमाचल प्रदेश कला, भाषा एवं संस्कृति अकादमी द्वारा आयोजित एक समारोह में साहित्यकार सुदर्शन वशिष्ट और निष्पादन कला के क्षेत्र में कत्थक में विशिष्ट योगदान के लिए इला पांडे को शिखर सम्मान-2016 से सम्मानित किया। पुरस्कार के रूप में प्रशस्ति पत्र के अलावा एक लाख रुपये की धनराशि प्रदान की गई। इला पांडे ने पुरस्कार राशि को सीएम राहत कोष में देने की घोषणा की। सीएम ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि संस्कृति और परंपराएं केवल आंकड़ों या स्मारक चिन्हों तक की सीमित नहीं हैं, बल्कि वास्तव में ये सीधे तौर पर जन जीवन से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि संस्कृति मानव सृजन का मानसिक चित्रण है, जो लोग समृद्ध संस्कृति को संरक्षित रखने में अपना भरपूर योगदान दे रहे हैं, उनका सम्मान किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि संस्कृति और परम्पराओं के संरक्षण और संबर्द्धन में कवियों, कलाकारों और लेखकों के योगदान को नजरंदाज नहीं किया जा सकता, क्योंकि अपरोक्ष रूप से आने वाली पीढ़ियों को जागरुक बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका है।

  • सीएम Virbhadra Singh के हाथों मिला सम्मान, मुख्यमंत्री राहत कोष में दी राशि
  • सीएम वीरभद्र सिंब बोले, संगीत हमारी संस्कृति और जीवन का अभिन्न अंग

उन्होंने कहा कि संगीत हमारी संस्कृति और जीवन का अभिन्न अंग है जिसे व्यापक स्तर पर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इसी उद्देश्य से प्रदेश सरकार ने सभी स्कूलों और महाविद्यालयों में संगीत अध्यापक नियुक्त करने का निर्णय लिया है। सरकार यह सुनिश्चित बनाएगी कि सरकारी शिक्षण संस्थानों में संगीत शिक्षा के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हों। सीएम ने इस अवसर पर प्रो. एमसी सक्सेना की पुस्तक आकाश बेल का विमोचन भी किया। उन्होंने निष्पादन कला के क्षेत्र में ज्वाला प्रसाद शर्मा और दृश्य कला को प्रोत्साहन देने के लिए प्रो. हिमा चैटर्जी को निष्पादन कला सम्मान-2016 देने की घोषणा की।


भाषा, कला एवं संस्कृति अकादमी के उपाध्यक्ष प्रेम शर्मा ने कहा कि इतिहास हमें समाज के साथ-साथ संस्कृति के उद्भव को प्रतिबिंबित करता है। उन्होंने कहा कि इतिहासकार, कवि और लेखक समाज का वास्तविक आइना हैं जो इसका सही पक्ष उजागर करते हैं। अकादमी की निदेशक शशि ठाकुर ने सीएम का स्वागत किया। सचिव अशोक हंस ने अकादमी की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है