Expand

खरीदने वालों के पास पैसा नहीं, बेचने वालों के पास खरीददार

खरीदने वालों के पास पैसा नहीं, बेचने वालों के पास खरीददार

- Advertisement -

शिमला। सदियों पुराने अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक मेले लवी की चमक इस बार फीकी हो गई है। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा अचानक लिए गए 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले ने शिमला जिला के रामपुर में आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय लवी मेले में कामधंधा चौपट करके रख दिया है। हालांकि व्यापारी और ग्राहक दोनों ही पहुंच रहे हैं, लेकिन दोनों ही इस बार बुरी तरह मायूस हैं। क्योंकि, खरीदने वालों के पास पैसा नहीं है और बेचने वालों के पास खरीददार नहीं आ रहे हैं।

  • lavi-mela-3फीकी हुई लवी मेले की चमक
  • करंसी न होने से इस अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक मेले से खरीददार गायब
  • जुआ रोकने के लिए इस बार पुलिस को नहीं करनी पड़ रही जद्दोजहद

ये मेला सूखे मेवों के लिए दुनिया भर में जाना जाता है, क्योंकि इसी मेले में हिमाचल के किन्नौर जिला में पैदा होने वाला ड्राई फ्रूट चिलगोजा मिलता है। चिलगोजा हिमाचल के बाद केवल अफगानिस्तान में पैदा होता है। 11 से 14 नवंबर तक आयोजित हो रहे अंतरराष्ट्रीय लवी मेले में इस बार चिलगोजा पिछले सालों की तुलना में तीन गुना महंगा हो गया है। इस बार चिलगोजा की कीमत 1200 से 1300 रुपए प्रति किलोग्राम है, जबकि पिछले साल यही चिलगोजा 400 से 450 रुपए प्रति किलो तक उपलब्ध था। अन्य सूखे मेवे हालांकि पिछले सालों के दामों पर ही उपलब्ध हैं।

लवी मेले में हालांकि कुछ व्यापारियों के लिए लवी आयोजन समिति की दरियादिली जरूर राहत दे रही है। लवी आयोजन कमेटी प्रदेश सचिवालय में बड़े बाबुओं को खुश करने के लिए बड़ी मात्रा में पशमिना शॉल और ड्राई फ्रूट के गिफ्ट खरीद रही है, ताकि इन्हें सचिवालय में बड़े बाबुओं और राजनेताओं में लवी के नाम पर बांटा जा सके।

lavi-mela-2जुए पर भी करंसी बंद होने की मार

जुए के लिए बदनाम लवी मेले में इस बार इस काम पर भी करंसी बंद होने की मार पड़ी है। यही कारण है कि पुलिस को इस बार जुआरियों को पकड़ने के लिए ज्यादा पसीना नहीं बहाना पड़ रहा है। हालांकि करंसी की समस्या के बावजूद
जगातखाना और ब्रौ में अभी भी कई घरों में बाकायदा पुलिस के नाक के नीचे जुआ चलने की सूचना है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नई करंसी न होने के कारण जुआरी पुरानी करंसी से ही जुआ खेलने का काम कर रहे हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है