Covid-19 Update

57,162
मामले (हिमाचल)
55,672
मरीज ठीक हुए
958
मौत
10,636,056
मामले (भारत)
98,348,639
मामले (दुनिया)

चार साल सोई रही सरकार, चुनावी वर्ष में लुभावनी घोषणाएं

चार साल सोई रही सरकार, चुनावी वर्ष में लुभावनी घोषणाएं

- Advertisement -

धर्मशाला। चार साल तक सरकार सोई रही और अब चुनावी वर्ष में लुभावनी घोषणाएं करके जनता को भ्रमित कर रही है। यह आरोप पूर्व मंत्री किशन कपूर ने शनिवार को धर्मशाला में पत्रकार वार्ता के दौरान लगाए। किशन कपूर ने शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा पर भी जनता को गुमराह करने के आरोप लगाए। कपूर ने कहा कि धर्मशाला के विधायक सुधीर शर्मा ने चुनावों के दौरान धर्मशाला में सीयू की स्थापना को अपनी प्राथमिकता बताया था, लेकिन चार साल बीतने के बावजदू न तो सीयू के लिए भूमि फाइनल हो पाई है और न ही निर्माण शुरू हो पाया है।

  • पूर्व मंत्री किशन कपूर ने कांग्रेस सरकार पर साधा निशाना
  • सुधीर शर्मा पर भी जनता को गुमराह करने का जड़ा आरोप
  • बोले, स्मार्ट सिटी के पैसे से विदेशी दौरे, जनता को क्या लाभ

उन्होंने कहा कि जदरांगल में आईटी पार्क का शिलान्यास किया गया था, लेकिन इसके बावजूद उसका निर्माण स्थल क्यों बदला गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने वर्ष 2003 में प्रदेश की जनता से हर परिवार में एक सदस्य को नौकरी और वर्ष 2012 में बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था, लेकिन सरकार दोनों वादों को पूरा नहीं कर पाई है। किशन कपूर ने कहा कि सरकार बताए कि आदि हिमानी चामुंडा और धर्मशाला रोप-वे का क्या हुआ। डल लेक सौंदर्यीकरण व विस्तारीकरण का जो कार्य भाजपा ने शुरू करवाया था, उसे कांग्रेस ने बंद क्यों करवा दिया। मोनो रेल का क्या हुआ, दाडऩू-त्रियूंड सड़क का काम क्यों अटका पड़ा है। कपूर ने कहा कि पूर्व भाजपा कार्यकाल में मिनी सचिवालय में एक मंत्री के बैठने की रिवायत शुरू की गई थी, जिसे कांग्रेस ने सत्ता में आते ही बंद करवा दिया।

कपूर ने कहा कि स्मार्ट सिटी को मिले पैसे से विदेश दौरे किए जा रहे हैं। विदेश दौरों से धर्मशाला की जनता को क्या लाभ होगा। कपूर ने आरोप लगाया कि सीएम नहीं चाहते कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी बने, यदि चाहते हैं तो जितनी राशि केंद्र ने दी है, उतनी राशि प्रदेश सरकार भी स्मार्ट सिटी के लिए जमा करवाए। किशन कपूर ने कहा कि सरकार ने धर्मशाला को दूसरी राजधानी का नया शिगूफा छोड़ दिया है। यदि सरकार इसके प्रति गंभीर है तो चीफ सेक्रेटरी, सभी विभागों के सेक्रेटरी व विभागाध्यक्षों को यहां बिठाए। जो राजधानी भत्ता और हाउस रेंट शिमला में कर्मियों को मिलता है, वही यहां भी दिया जाए। उन्होंने कहा कि दूसरी राजधानी बनानी है तो शिमला की तर्ज पर मीडिया को भी यहां सुविधाएं दी जाएं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है