Expand

राज्यपाल की सलाहः जंक फूड से परहेज करें युवा

राज्यपाल की सलाहः जंक फूड से परहेज करें युवा

- Advertisement -

पपरोला। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि आयुर्वेद जीवन शैली है और जब इस प्रणाली में बदलाव किया जाता है तो इससे शरीर पर प्रभाव पड़ता है और मनुष्य को  अनेक प्रकार की बीमारियां घेर लेती हैं। उन्होंने विशेषकर युवाओं को स्वस्थ जीवन जीने के लिए जंक फूड से परहेज की अपील की। उन्होंने कहा कि बीमारियां जीवनशैली का दुष्परिणाम हैं। हमारी जीवन पद्धति आलसी है। यहां पर ऐश ओ आराम करने वाला बड़ा है और मेहनत कर पसीना बहाने वाला छोटा है। साथ ही कूड़ा फैकने वाला बड़ा और कूड़ा उठाकर सफाई करने वाला छोटा है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि बेटे वाला बड़ा है और बेटी वाला छोटा। लोग दवाइयों के सहारे जिंदा रहने की कोशिश करते हैं। उन्होंने बेहतर एवं स्वस्थ जीवन यापन के लिए आयुर्वेद की इस पुरानी पारम्परिक प्रणाली को अपनाने की सलाह दी।

  • आयुर्वेद जीवन शैली है और जब इस प्रणाली में बदलाव किया जाता है तो इससे शरीर पर प्रभाव पड़ता है और मनुष्य को  अनेक प्रकार की बीमारियां घेर लेती हैं

devvrat2राज्यपाल आज कांगड़ा जिला के पपरोला में आयुर्वेद विभाग द्वारा राजीव गांधी राजकीय स्नात्कोत्तर कालेज एवं अस्पताल पपरोला के सहयोग से आयोजित राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एवं धनवंतरी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस वर्ष का थीम ‘मधुमेह के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए आयुर्वेद निर्धारित किया गया है।  उन्होंने विभाग को शिविर आयोजित करने का भी आग्रह किया जहां स्थानीय वैद्य को मंच उपलब्ध करवाया जाए तथा बहुमूल्य औषधीय पौधों की पहचान के लिए अलग से एक विभाग की स्थापना की जाए। उन्होंने राज्य में आयुर्वेद के प्रोत्साहन के लिए आयुर्वेद मंत्री करण सिंह के प्रयासों की सराहना की। इससे पूर्व, राज्यपाल ने कॉलेज परिसर में धनवंतरी मंदिर में यज्ञ एवं पूजा अर्चना की। उन्होंने इस अवसर पर एक पौधा भी रोपा तथा पपरोला आयुर्वेदिक अस्पताल में नशा निवारण परामर्श क्लीनिक का लोकार्पण भी किया जो सप्ताह में दो बार खुली रहेगी।

devvrat1 राज्यपाल ने आयुर्वेद अस्पताल में ओपीडी का निरीक्षण भी किया तथा चिकित्सकों एवं मरीजों से संवाद किया। उन्होंने पंचकर्मा केन्द्र का दौरा भी किया और केन्द्र को सुदृढ़ करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। आयुर्वेद मंत्री कर्ण सिंह ने कहा कि आयुर्वेद विभाग ने राज्य में आयुर्वेद के विकास के लिए अनेक महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं, ताकि अधिक से अधिक लोग उपचार सुविधा प्राप्त कर सके।

स्थानीय विधायक किशोरी लाल ने कहा कि अधिकांश बीमारियां जीवनशैली के कारण होती हैं। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद इनकी रोकथाम एवं उपचार में सहायता करेगा। उन्होंने कहा कि सभी को इस भरोसेमंद पारम्पिक प्रणाली का संरक्षण करके इसे अपनाना चाहिए। आयुर्वेद के निदेशक डॉ. एसके पुर्थी ने कहा कि राज्यपाल के निर्देशानुसार आयुर्वेदिक अस्पताल पपरोला में नशा मुक्ति परामर्श केन्द्र स्थापित किया गया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है