×

#​WorldPressFreedomDay: विश्व रैंकिंग में भारत फिसला, 7 साल में 389 पत्रकारों ने जान गंवाई

#​WorldPressFreedomDay: विश्व रैंकिंग में भारत फिसला, 7 साल में 389 पत्रकारों ने जान गंवाई

- Advertisement -

​नई दिल्ली। ​आज पूरी दुनिया में #​WorldPressFreedomDay मनाया जा रहा है। भारत में पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता हैं, मगर हमारे देश में पत्रकारों की स्थिति पिछले कुछ सालों से बदतर हुई है। World Press Freedom इंडेक्स की 180 मजबूत देशों की सूची में भारत तीन पायदान फिसलकर 136वें स्थान पर आ गया है। इससे पहले भारत 133वें स्थान पर था।


​#WorldPressFreedomDay​भारत में स्थिति चिंताजनक

भारत के पिछले सात सालों के आंकड़ों पर नजर डालें तो स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। साल 2012 में 74, 2013 में 73, 2014 में 61, 2015 में 73, 2016 में 48, 2017 में 46 और साल 2018 में अब तक 14 पत्रकारों ने काम के दौरान अपनी जान गंवाई है। यानी सात सालों में कुल 389 पत्रकारों को जान से हाथ धोना पड़ा। इस सूची में नॉर्वे जहां पहले नंबर पर है,​ वहीं दक्षिण कोरिया सबसे नीचे पायदान पर मौजूद है। पूरी दुनिया में इस समय 193 पत्रकार जेल में हैं। पत्रकारों को बधाई दे​ते हुए वैश्विक संगठन यूनेस्को ने ट्वीट किया, पत्रकारिता कोई अपराध नहीं है। बिना सुरक्षित पत्रकारिता के सुरक्षित सूचना हो नहीं सकती। बिना सूचना के कोई आजादी नहीं होती।

​सच की आवाज को झूठ से दबाया जा रहा

World Press Freedom इंडेक्स में 21 देशों को काले रंग में दिखाया गया है। इसका मतलब है कि इन देशों में प्रेस की आजादी बहुत खराब है। वहीं 51 देशों को खराब स्थिति वाले वर्ग में रखा गया है। इंडियन नेशनल कांग्रेस ने पत्रकारों को प्रेस फ्रीडम डे की बधाई देते हुए ट्वीट किया है कि आज भारतीय पत्रकारों के लिए कठिन समय है। सच की आवाज को झूठ से दबा दिया जाता है। यह बहुत जरूरी है कि हमारे लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को मजबूत बनाया जाए और इसे और निडर बनाने के लिए योगदान दिया जाए।​ ​केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पत्रकारों को सूचना का महत्वपूर्ण जरिया बताते हुए ट्वीट किया है कि मुक्त और ईमानदार प्रेस लोकतंत्र की रीढ़ है। प्रेस हमेशा से दुनिया भर में सूचना, आलोचना और संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम रहा है। इसलिए प्रेस की स्वतंत्रता आवश्यक है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है