Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

महाराष्ट्र में चार ‘पहाड़ी बंदों’ को बना दिया बंधुआ मजदूर; #Hotel में जबरन कैद कर होता था अत्याचार

हाराष्ट्र के राज्यपाल और उत्तराखंड के पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी की पहल पर हो सके आजाद

महाराष्ट्र में चार ‘पहाड़ी बंदों’ को बना दिया बंधुआ मजदूर; #Hotel में जबरन कैद कर होता था अत्याचार

- Advertisement -

मुंबई/देहरादून। महाराष्ट्र (Maharashtra) के नासिक में पांच माह से एक होटल में जबरन बंधुआ मजदूर बनाकर रखे गए चार पहाड़ी युवकों को मुक्त कराया गया है। ये कार्रवाई महाराष्ट्र के राज्यपाल और उत्तराखंड के पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Kosari) की पहल पर की गई। होटल से आजाद कराए गए युवक मुनस्यारी के रहने वाले हैं। इन युवकों को एक होटल (Hotel) के कमरे में जबरन कैद कर के रखा गया था। जहां पर होटल मालिक इन युवाओं से बगैर वेतन के जबरन काम कराने के साथ ही पीटता भी था। इन पहाड़ी बंदों को बाहर निकलने और घर पर बात करने की भी इजाजत नहीं थी। इस बीच यह मामला किसी तरह सूबे के राज्यपाल कोश्यारी तक पहुंचा। जिसके बाद नासिक प्रशासन में हरकत में आया और पीड़ित युवाओं को होटल से बंधन मुक्त कराकर घर भेजा गया।


गरीबी ने फंसा दिया शोषणकर्ताओं के चंगुल में

बतौर रिपोर्ट्स, कमजोर आर्थिक हालात के चलते नासिक के एक होटल में नौकरी कर रहे मुनस्यारी के चार युवकों रोहित बृजवाल, गौरव चिराल, प्रकाश कुंवर और दीपू तोमक्याल को एक होटल मालिक ने बंधुआ मजदूर बना लिया। लॉकडाउन के चलते चारों घर वापस लौटना चाहते थे, लेकिन होटल मालिक के सामने उनकी एक नहीं चली। उन्हें होटल से बाहर निकलने की इजाजत तक नहीं थी। उनके साथ हर रोज मारपीट भी की जाती थी। इस बीच मौका पाकर इनमें से एक युवक ने अपने परिजनों को आपबीती सुनाई तो परिवार को घटना का पता चल सका। इसके बाद किसी तरह इस मामले को लेकर पत्र के माध्यम से संपर्क साधा गया।


यह भी पढ़ें: हिमाचल में बाइक हादसे में गई थी विंग कमांडर की जान; बुजुर्ग मां ने हार्ले-डेविडसन पर ठोंका करोड़ों का केस

इस पर राज्यपाल कोश्यारी ने मामले की गंभीरता को समझते हुए नासिक जिला प्रशासन को शीघ्र मामले का संज्ञान लेने के निर्देश दिए। इस पर प्रवासियों ने जिला प्रशासन के साथ मिलकर चारों युवकों को होटल मालिक के चंगुल से आजाद किया। वहीं, मामले का खुलासा होने के बाद जब पुलिस और प्रवासी होटल मालिक से मिलने पहुंचे तो उसने चारों युवकों का वेतन देने से साफ मना कर दिया। पुलिस व प्रशासन ने मामले पर गंभीर रुख दिखाते हुए चारों युवकों का वेतन दिलाया। चारों युवकों व उनके परिजनों ने सभी प्रवासियों, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी व आयकर आयुक्त नरेंद्र सिंह जंगपांगी का आभार जताया है। अब चारों युवक सुरक्षित मुनस्यारी पहुंच गए हैं, जिन्हें गेस्ट हाउस में क्वारंटाइन किया गया है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है