Covid-19 Update

2,00,328
मामले (हिमाचल)
1,94,235
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,881,965
मामले (भारत)
178,960,779
मामले (दुनिया)
×

हिमाचल: पहाड़ियों पर गए चरवाहे की 14 भेड़-बकरियों की मौत, कई अन्य बीमार

हिमाचल: पहाड़ियों पर गए चरवाहे की 14 भेड़-बकरियों की मौत, कई अन्य बीमार

- Advertisement -

धर्मशाला। हिमाचल के कांगड़ा (Kangra) जिला की पहाड़ियों पर बकरियां लेकर गए एक चरवाहे की 14 भेड़-बकरियां (Sheep and Goats) अज्ञात बीमारी से मर गई हैं। जबकि कुछ अन्य बीमार चल रही हैं। घटना के बाद चरवाहा पहाड़ से कई किलोमीटर पैदल चलकर दाड़ी में पशु चिकित्सालय (Animal Hospital) पहुंचा और अपनी फरियाद सुनाई। वहीं चिकित्सकों की टीम मरी हुई भेड़ बकरियों का पोस्टमार्टम करेगी, ताकि बीमारी का पता चल सके। बता दें कि इससे पहले भी इसी जंगल में 100 से ज्यादा भेड़-बकरियां अज्ञात बीमारी से एक अन्य चरवाहे की मर चुकी हैं। ऐसी ही एक अन्य घटना त्रियूंड में भी हुई थी।

यह भी पढ़ें :- हिमाचल: खाना बनाते महिला के कपड़ों में लगी आग, बुरी तरह झुलसी

मिली जानकारी के अनुसार पीड़ित भेड़पालक जर्म सिंह ने बताया कि वह अपनी भेड़-बकरियां लेकर पहाड़ पर जंगल (Forest) में थातरी से आठ किलोमीटर दूर कसलैहड़ नाले के पास चराने के लिए रखी हैं, लेकिन 14 भेड़-बकरियां अज्ञात बीमारी से मर गई हैं और कुछ अन्य बीमार हैं। उसे डर है कि बीमार भेड़ बकरियों की भी कहीं मौत ना हो जाए। जिसके चलते वह कई किलोमीटर का पैदल सफर कर पशु चिकित्सालय पहुंचा और मदद की गुहार लगाई। जर्म सिंह ने बताया कि इस हादसे में उसका काफी नुकसान हुआ है। पीड़ित जर्म सिंह मुख्य रूप से भरमौर (Bharmaur) का रहने वाले हैं और यह नगरी में भी रहते हैं।


वहीं इस बारे में डॉ. शालिका शर्मा ने बताया कि भेड़पालक ने भेड़-बकरियां की मौत के बारे में बताया है। उन्होंने कहा कि भेड़-बकरियों का पोस्टमार्टम (Post mortem) किया जाएगा, उसके बाद ही पता चलेगा कि किस कारण से मौत हुई हैं। हालांकि बीते दिनों भी कुछ भेड़ बकरियां इसी क्षेत्र में मरी थी तो उनकी मौत में कोई विशेष संक्रमण नहीं पाया गया था। वह सिर्फ एक तरह का सामान्य नीमोनिया था। उन्होंने बताया कि पूर्व में हुई घटना से संज्ञान लेते हुए भेड़-बकरियों में जरूरी टीकाकरण भी करवाया गया था। अब चरवाहे की भेड़-बकरियों का कल पोस्टमार्टम किया जाएगा उसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है कि किस बीमारी से यह मरी हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है