Covid-19 Update

59,065
मामले (हिमाचल)
57,507
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,210,799
मामले (भारत)
117,078,869
मामले (दुनिया)

गाजः कांडियो स्कूल से Bunk मारने वाले 2 शिक्षक सस्पेंड, BEEO-सीएचटी को कारण बताओ Notice

गाजः कांडियो स्कूल से Bunk मारने वाले 2 शिक्षक सस्पेंड, BEEO-सीएचटी को कारण बताओ Notice

- Advertisement -

सोशल मीडिया में वायरल वीडियो के बाद शिक्षा निदेशक की कार्रवाई

आशू वर्मा/नाहन। शिलाई के कांडियो स्कूल से बंक मार रहे दो शिक्षकों पर गाज गिर गई है, इतना ही नहीं BEEO सहित सीएचटी को भी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। अगर अध्यापकों की गैरहाजिरी को लेकर वे कोई माकूल जवाब नहीं दे पाए तो उन्हें भी कोप का भाजन बनना पड़ सकता है। गौर रहे कि अध्यापकों की मटरगश्ती के बाद सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें कांडियो स्कूल के एक छात्र ने अध्यापकों के स्कूल न आने की बात कही थी, वीडियो में छात्र ने साफ कहा थी कि वो पढ़ना चाहते हैं, लेकिन उन्हें पढ़ाने के लिए अध्यापक स्कूल ही नहीं आते। पूरे महीने में अध्यापकों की हाजिरी मात्र 10 से 12 दिन रहती है। बहरहाल, वीडियो देख गुरुवार को खुद प्रारंभिक शिक्षा निदेशक सिरमौर दलीप सिंह नेगी शिलाई पहुंचे और लगातार गैर हाजिर रह रहे दो अध्यापकों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया, जबकि BEEO और सीएचटी शिलाई को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। गौर रहे कि शिलाई की बालकोटी पंचायत के कांडियो स्कूल में आना है या नहीं, यह सिर्फ स्कूल के अध्यापकों पर निर्भर करता था। अध्यापकों का जब दिल किया तब स्कूल पहुंच जाते थे और जब दिल किया तब छुट्टी कर लेते थे।

स्कूल में 10 से 12 दिन ही आते थे अध्यापक

बताया जा रहा है कि अध्यापक महीने में बड़ी मुश्किल से 10 से 12 दिन ही स्कूल में दर्शन देते हैं। इतना ही नहीं बताया जा रहा है कि अध्यापक यहां शराब का भी सेवन करते रहे हैं। आपको हैरानी तब होगी जब आप खुद स्कूल के छात्रों से यह बात सुनेंगे। सोशल मीडिया में वायरल वीडियो में स्कूली छात्र अध्यापकों की मनमर्जी की पोल खोलता नजर आ रहा है। हालात यह है कि यहां गुरुजी का रोजाना आना नहीं होता। यह वीडियो 4 दिसंबर का है। यहां स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे से जब यह पूछा गया कि गुरुजी कितने दिन आते हैं, तो जवाब दिया गया कि 10-12 दिन ही आते है। चपरासी के आने का कोई टाइम टेबल नहीं होता। उधर, ग्रामीण अनिल शर्मा आदि का कहना है कि इस स्कूल में अध्यापक अपनी मनमर्जी से आते हैं। जिन पर किसी का बस नहीं चलता। बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। लिहाजा विभाग को इस दिशा में उचित कदम उठाने की आवश्यकता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है