×

हिमाचल के इस गांव में पेड़ काटने पर मिलती है सजा, पर्यावरण दिवस पर रोपे 3000 पौधे

हिमाचल के इस गांव में पेड़ काटने पर मिलती है सजा, पर्यावरण दिवस पर रोपे 3000 पौधे

- Advertisement -

केलंग। जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति (lahaul spiti) में एक ऐसा गांव है जहां पर जंगल में पेड़ काटने पर पूरी तरह प्रतिबंध है। यहां पेड़ काटने पर पांच से 10 हजार रुपए जुर्माना लगाया जाता है। इस गांव का नाम है मूलिंग। पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में एक बड़ी मिसाल बने इस गांव में आज अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण दिवस (World Environment Day) के अवसर पर 3000 पौधे रोप गए। लला मेमे फाउंडेशन, महिला व युवा मंडल मूलिंग, डाइट तांदी, वन विभाग, हिमाचल पथ परिवहन निगम केलंग के संयुक्त तत्वावधान में मूलिंग गांव के साथ लगते जंगल में पौधरोपण किया गया।


यह भी पढ़ें: जयराम बोले – बिना सोच और विजन वाले नेता राहुल बीजेपी के लिए हिट

यंग ड्रूकपा एसोसिएशन की ओर से केलंग (Keylong) में गरशा ईको फेस्टिवल आठ जून तक मनाया जाएगा। इसमें पौधरोपण, स्वच्छता अभियान, सांस्कृतिक कार्यक्रम और साइकिल रेस का आयोजन होगा। ड्रूकपा एसोसिएशन ने वन विभाग, नेहरू युवा केंद्र व हिमालयन परियोजना के संयुक्त तत्वावधान में ग्रामीणों के सहयोग से विभिन्न बौद्ध मठों के साथ लगते वन भूमि में देवदार और कायल के करीब तीन हजार पौधे रोपे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है