Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

गड़सा घाटी में जहरीला घास खाने से 62 भेड़-बकरियों की मौत, 20 का चल रहा इलाज

गड़सा घाटी में जहरीला घास खाने से 62 भेड़-बकरियों की मौत, 20 का चल रहा इलाज

- Advertisement -

कुल्लू। जिला की गड़सा घाटी के हुरला में जहरीला घास खाने से 62 भेड़-बकरियों की मौत हो गई, जबकि 20 का उपचार चल रहा है। घटना की सूचना मिलने के बाद पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) की टीम ने मौके पर पहुंच कर मृत भेड़-बकरियों का पोस्टमार्टम कर विसरा रिपोर्ट के लिए सैंपल लिए। इस सैंपल के बाद भेड़ बकरियों की मौत की पुख्ता जानकारी मिलेगी। इस मामले में राजस्व विभाग (Revenue Department) की टीम ने मौके पर पहुंचा कर नुकसान के रिपोर्ट तैयार कर एसडीएम कुल्लू अनुराग शर्मा (SDM Kullu Anurag Sharma) को भेजी है, जिससे फत्ते चंद को सरकार प्रशासन की तरफ से नियम अनुसार उचित मुआवजा मिलेगा।

यह भी पढ़ें: ब्रेकिंगः 8 HPS को मिली नई तैनाती, 4 का तबादला-अमित होंगे ASP बिलासपुर

पशुपालन विभाग उप निदेशक कुल्लू संजीव नड्डा ने स्वयं मौके पर पहुंचकर घटना का जायजा लिया। विशेषज्ञ की टीम भी मौके पर पहुंची। घायल भेड़ बकरियों का उपचार चल रहा है। उप निदेशक संजीव नड्‌डा ने बताया कि यह घटना बुधवार शाम की है और रात को उन्होंने स्वयं मौके का दौरा किया है और विशेषज्ञ डॉक्टर उपचार करने में जुटे हुए हैं।

अब तक विभागीय जांच में पता चला है कि भेड़-बकरियों की मौत जहरीला घास खाने से हुई है। भेड़ बकरियां कुल्लू जिला के बड़ाग्रां निवासी दो भेड़ पालकों की हैं, जिसमें एक फतेह सिंह और एक अन्य व्यक्ति है। विभाग इस घटना पर पूरी निगरानी रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि बसंत ऋतु में कुछ क्षेत्र हैं, जहां पर जहरीला घास उगता है, जिससे इससे पहले भी 5, 6 वर्ष पूर्व इस क्षेत्र में पशुपालकों की भेड़ बकरियों को नुकसान हुआ है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है