Covid-19 Update

2,04,685
मामले (हिमाचल)
2,00,233
मरीज ठीक हुए
3,491
मौत
31,219,374
मामले (भारत)
192,489,942
मामले (दुनिया)
×

खुलासाः Himachal में जनवरी से अप्रैल तक 9 तेंदुए मारे

खुलासाः Himachal में जनवरी से अप्रैल तक 9 तेंदुए मारे

- Advertisement -

9 leopards killed : शिमला।  देश में तेंदुए भी अब खतरे की जद में हैं। एक सर्वे के मुताबिक देश में हर साल करीब दो हजार तेंदुए मारे जा रहे हैं। यह खुलासा नेचर वाच इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक राजेश्वर नेगी ने किया। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार इन्हें बचाने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रही। यही कारण है कि तेंदुए हर साल मारे जा रहे हैं।  यहां प्रेस कांफ्रेंस में नेगी ने कहा कि देश में टाइगर को बचाने के प्रयास तो हो रहे हैं, लेकिन तेंदुए को बचाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे। उनका कहना था कि जिस तरह से टाइगर को बचाने के लिए प्रोजेक्ट बनाकर कार्य किया जा रहा है। उसी तर्ज पर तेंदुए को बचाने के लिए कार्य किया जाना चाहिए। 

देश में हर साल करीब दो हजार तेंदुए मारे जा रहे हैं

हिमाचल में इस वर्ष जनवरी से लेकर अप्रैल तक 9 तेंदुए मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि लोग इन्हें खुद के लिए खतरा समझकर मार रहे हैं। उनका कहना था कि जिस तरह से लोग तेंदुए को मार रहे हैं, उससे इनकी आबादी में तेजी से गिरावट आएगी और यह इकोलाजी के लिए ठीक नहीं हैं। नेगी ने कहा कि देश में इस वक्त 12 हजार के करीब तेंदुए बचे हैं। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय एजेंसी के साथ एक सर्वे के दौरान यह बात सामने आई कि देश में तेदुओं के मरने की रफ्तार तेज है और इन्हें मारा जा रहा है। जिस तेजी से ये मारे जा रहे हैं, उससे आने वाले कुछ सालों में ये लुत्प हो जाएंगे।


नेगी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि तेंदुए को बचाने को प्रोजेक्ट बनाया जाए और इसके माध्यम से इन्हें बचाने को ठोस कदम उठाए जाए।  बंदरों की नसबंदी पर भी राजेश्वर नेगी ने सवाल उठाए और कहा कि बंदरों की नसबंदी नहीं की जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि बंदरों की नसबंदी के नाम पर भ्रष्टाचार हो रहा है और कोई इस ओर ध्यान नहीं दे रहा। उन्होंने इसकी जांच की मांग की और कहा कि यदि जांच हुई तो इस कार्य में हो रहे पैसे के खेल का खुलासा होगा। 

ईवीएमः मतदाताओं के साथ छलावा और लोकतंत्र के लिए घातक

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है