Covid-19 Update

1,98,877
मामले (हिमाचल)
1,91,041
मरीज ठीक हुए
3,382
मौत
29,548,012
मामले (भारत)
176,842,131
मामले (दुनिया)
×

हिमाचल के प्रतिनिधिमंडल को पसंद आई स्विटजरलैंड कंपनी की यह रोप-वे प्रणाली 

हिमाचल के प्रतिनिधिमंडल को पसंद आई स्विटजरलैंड कंपनी की यह रोप-वे प्रणाली 

- Advertisement -

शिमला। सीएम के अतिरिक्त प्रधान सचिव संजय कुंडू ( Sanjay Kundu) के नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश के प्रतिनिधिमंडल (delegation) ने बोलीविया, स्विटजरलैंड और ऑस्ट्रिया का दौरा किया। दौरे के दौरान प्रतिनिधिमंडल ने शहरी और ग्रामीण परिवहन के समाधान के लिए रोप-वे प्रणाली (Rope-way system) का अध्ययन कर विश्व की श्रेष्ठ रोप-वे कंपनी की विनिर्माण इकाईयों का दौरा किया। दौरे से लौटे प्रतिनिधिमंडल ने सीएम जयराम ठाकुर, परिवहन मंत्री तथा मुख्य सचिव को इस अध्ययन प्रवास के बारे में अवगत करवाया। संजय कुंडू ने कहा कि 18 मई को प्रतिनिधिमंडल ने स्टेंस स्विटजरलैंड में डोपलमायर द्वारा स्थापित तथा कैब्रियो केबल कार कंपनी द्वारा संचालित फनीक्यूलर व 3-एस रोप-वे का भी दौरा किया।

यह भी पढ़ें:  इंडियन टेक्नोमेक कंपनी के एमडी को भगौड़ा घोषित करने की तैयारी


उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने इंजन, मशीन कक्ष का भी दौरा किया, मॉडल का अध्ययन किया तथा केबल कार की कार्यप्रणाली का बारिकी से निरीक्षण किया। कैब्रियो केबल कार की लंबाई 2320 मीटर है और यह प्रति घंटा प्रति दिशा में 8 मीटर प्रति सेकेंड की गति से 465 व्यक्तियों को ले जाने की क्षमता रखती है। प्रतिनिधिमंडल ने पाया कि इस प्रकार की प्रणाली बहुत मजबूत है और यह अत्यधिक तापमान व तीव्र वायु गति का सामना कर सकती है और यह प्रणाली हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के बर्फ से ढके पर्वतों एवं दर्रां में वर्षभर कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए प्रयोग में लाई जा सकती है। प्रतिनिधिमंडल ने पाया कि रोप-वे प्रणाली पर्यटन उद्देश्यों तथा दूरदराज एवं दुर्गम जनजातीय क्षेत्रों में सालभर कनेक्टिविटी प्रदान करने, शहरी परिवहन तथा भीड़-भाड़ की समस्या का पूर्ण समाधान है। यह प्रणाली कम लागत, पर्यावरण के अनुकूल, कम स्थान लेने वाली है और इसका बहुत कम समय में निर्माण किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: जॉबः हिमाचल में इन 133 पदों पर होगी भर्ती, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

यह भी पढ़ेंः बढ़ती गर्मी के चलते सरकारी व निजी स्कूलों का टाइम टेबल बदला

संजय कुंडू ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने 16 मई को ऑल्टेन में स्विटजरलैंड के रोप-वे केबिन के निर्माता कैरोसेरी वर्के आरबर्ग (सीडब्ल्यूए) का दौरा किया। उन्होंने कहा कि इस कंपनी की स्थापना वर्ष 1939 में हुई थी और बाद में यह डॉप्लेमर गारावेंटा समूह का हिस्सा बन गई। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने विनिर्माण इकाई के दौरे के दौरान सामग्री और विनिर्माण प्रक्रिया की गुणवत्ता का अध्ययन किया तथा विभिन्न एप्लीकेशनों के लिए उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के केबल कार केबिनों के बारे में व्यावहारिक अनुभव प्राप्त किया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने सीडब्ल्यूए की प्रबंधन समिति तथा इंजीनियरों के साथ बैठक की और यात्रियों की सुरक्षा की गुणावत्ता के प्रति विश्वास व्यक्त किया। अतिरिक्त प्रधान सचिव ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने ऑस्ट्रिया के वोलफर्ट (Wolffert of Austria) में अगले दिन विश्व के सबसे बड़े रोप-वे विनिर्माता डोपेलमेयर गारवेंटा समूह के विनिर्माण यूनिट तथा मुख्य कार्यालय का दौरा किया। उन्होंने कहा कि यह समूह  चेयर लिफ्ट, केबल कार, गोंडोल आदि का निर्माण करता है और 89 देशों में 14,600 से अधिक की स्थापना कर चुका है।

यह भी पढ़ें:  एचपीजेएस का अंतिम परिणाम घोषित, प्रदेश को मिले चार सिविल जज

उन्होंने कहा कि प्रबंधन ने शहरी, ग्रामीण, दूरदराज तथा पर्यटन परिवहन के अनुकूल मोनोकेबल, बाईकेवल, ट्राईकेबल, स्काई लिफ्ट तथ केबल कार पर विस्तृत प्रस्तुति दी। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने रोप चालित परिवहन की विभिन्न एप्लीकेशनों के बारे में जाना और इसे हिमाचल प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों के परिप्रेक्ष्य में इसके प्रयोग पर परिचर्चा की गई। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने विनिर्माण इकाई का भी दौरा किया तथा रोप-वे के निर्माण की प्रत्येक प्रक्रिया को विस्तार से जाना। प्रतिनिधिमंडल के अन्य सदस्यों में प्रधान सचिव परिवहन जगदीश चंद्र शर्मा, रोप-वे निगम के मुख्य महाप्रबंधक अजय शर्मा, रोप-वे निगम के महाप्रबंधक रोहित ठाकुर तथा वाटर एंड पावर कंस्लटेंसी सर्विसिज़ (वापकोस) के प्रबंधक प्रभाकर सती भी उपस्थित थे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है