Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

Video : लावारिस पशुओं का “Best Friend” है आर्यन, जानिए क्यों साइकिल निकालकर रोज लगाता है बाजार का चक्कर

Video : लावारिस पशुओं का “Best Friend” है आर्यन, जानिए क्यों साइकिल निकालकर रोज लगाता है बाजार का चक्कर

- Advertisement -

सुंदरनगर। आज हम आपको एक ऐसे नन्हें से बालक से मिलवाने जा रहे हैं जो अपने लिए कम और लावारिस पशुओं (Unclaimed animals) के लिए ज्यादा सोचता है। लावारिस पशुओं से इस नन्हें से बालक की दोस्ती कुछ ऐसी हो गई है कि अब लावारिस पशुओं ने इसके घर आना शुरू कर दिया है। आप भी देखिए एक नन्हें से बालक की लावारिस पशुओं के साथ फ्रेंडशिप की यह कहानी। मतलबपरस्त इंसानों द्वारा छोड़े गए लावारिस पशुओं का सहारा बन रहा है सुंदरनगर शहर (Sundernagar city) का 12 वर्षीय नन्हा आर्यन ठाकुर।

 


सुंदरनगर शहर में एमएलएसएम कॉलेज के पास रहने वाला आर्यन ठाकुर लावारिस पशुओं के साथ दोस्ती (Friendship) करने में माहिर हो गया है। आर्यन के पिता राजेश ठाकुर भी लावारिस पशुओं के साथ काफी लगाव रखते हैं और आर्यन को यह सीख अपने पिता से ही मिली है। लॉकडाउन की स्थिति में जब लावारिस पशुओं के सामने खाने का संकट मंडराने लगा तो आर्यन ने इनकी और ज्यादा मदद करने की सोची और मदद की भी। आर्यन ना तेज धूप देखता है और ना ही बारिश। रोजाना अपनी साइकिल निकालकर अपने घर के आसपास वाले सभी लावारिस पशुओं के लिए खाद्य सामग्री के साथ मिलने पहुंच जाता है। चाहे गाय हो, बैल हो, कुत्ता हो, बंदर हो या अन्य कोई जानवर हो।

आर्यन सभी को एक समान नजर से देखता है और जितना संभव हो सके उनके लिए खाने का इंतजाम करता है। यहां तक की आर्यन ने अपनी सारी पॉकेट मनी भी इसी काम पर खर्च कर दी है। अब नतीजा यह हो गया है कि आर्यन के घर लावारिस पशुओं ने खुद ही आना शुरू कर दिया है। आर्यन बताता है कि उसने इन सभी से दोस्ती कर ली है और उसी के नाते यह उसके घर पर आते हैं। जब तक कुछ खाने को न दूं तब तक जाते भी नहीं। आर्यन बताता है कि पशु खाने से ज्यादा प्यार के भूखे होते हैं और वह उन्हें अपनी तरफ से पूरा प्यार देने की कोशिश करता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है