- Advertisement -

मुझे मेरी पत्नी वापस करो, मुस्लिम युवक ने Supreme Court से लगाई गुहार

A muslim youth urged SC to return his wife

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। उत्तराखंड में हिंदू लड़की से शादी करने वाले मुस्लिम लड़के ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर अपनी पत्नी को वापस करने की मांग की है। लड़के की याचिका पर कोर्ट ने गुरुवार को लड़की को पेश करने का निर्देश दिया है। लड़का इस समय जेल में है, जबकि लड़की अपने माता-पिता के पास है। दोनों ने भागकर शादी की थी।

याचिकाकर्ता 23 साल के मोहम्मद दानिश का दावा है कि 20 साल की श्वेता से उसने उसकी मर्जी से निकाह किया। लेकिन श्वेता के परिवार वाले जबरन उसे अपने कब्जे में रखे हुए हैं। दानिश नाम के लड़के की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद-32 के तहत अर्जी दाखिल की गई है। अर्जी में कहा गया है कि लड़की के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन हो रहा है उसे सुप्रीम कोर्ट में पेश किया जाए। चूंकि लड़की ने मुस्लिम धर्म अपनाकर उसके साथ निकाह किया है ऐसे में उन दोनों का अधिकार है कि वह पति-पत्नी की तरह रहें लिहाजा लड़की को उसके हवाले किया जाए।

आज हुई सुनवाई में उत्तराखंड सरकार और श्वेता के पिता के वकील भी मौजूद थे। उत्तराखंड सरकार के वकील ने दानिश के दावे को झूठा बताया। उन्होंने कहा कि जिस मस्ज़िद में निकाह की बात कही जा रही है, उसके काज़ी ने 18 मार्च को वहां किसी निकाह से इनकार किया है। सरकारी वकील ने ये भी कहा कि मजिस्ट्रेट को दिए बयान में लड़की ने अपने माता-पिता के साथ रहने की इच्छा जताई है। इसलिए उसे उनके साथ रखा गया है। इस पर चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली बेंच ने ने कहा- “हम लड़की से मिल कर जानना चाहते हैं कि वो कहां रहना चाहती है।”

यह है पूरा मामला

उत्तराखंड के हल्द्वानी के रहने वाली श्वेता के परिवार ने 18 मार्च को स्थानीय थाने में लड़की के गायब होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। उन्होंने हल्द्वानी में ही ब्यूटी पार्लर चलाने वाली महक खान और उसके बेटे दानिश पर इस घटना में शामिल होने का शक जताया था। जांच के लिए यूपी के ग़ाज़ियाबाद पहुंची उत्तराखंड पुलिस ने दानिश के पिता नईम अहमद को हिरासत में लिया। बाद में उसकी मां महक खान को भी हिरासत में लिया गया। पुलिस को सूचना मिली कि दानिश और श्वेता ने गाजियाबाद के एक मदरसे में 18 मार्च को निकाह कर लिया था। निकाह के बाद श्वेता ने नाम बदलकर आयशा रख लिया है।

- Advertisement -

Leave A Reply