Covid-19 Update

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

दुर्गा पंडाल में दिखी सीमा विवाद की झलक, #Jinping का संहार कर रहीं मां

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में बनाया गया पंडाल खूब चर्चा में

दुर्गा पंडाल में दिखी सीमा विवाद की झलक, #Jinping का संहार कर रहीं मां

- Advertisement -

नई दिल्ली। नवरात्र के साथ त्योहारी सीजन शुरू हो गया है और लोग आने वालें पर्व की तैयारियों में जुट गए हैं। दुर्गा पूजा (Durga Puja) को लेकर भी विशेष तैयारियां चल रही हैं। विशेष रूप से बंगाल में दुर्गा पूजा काफी प्रसिद्ध है। दुर्गा पूजा के मुख्य आकर्षण होते हैं इसके शानदार पंडाल। इन पंडालों को रचनात्मक श्रमिकों द्वारा तैयार किया जाता है जो अक्सर मौजूदा मामलों और ट्रेंडिंग मुद्दों को देखते हुए इन्हें तैयार करते हैं। पूरे बंगाल सहित पूर्वी भारत के अधिकांश हिस्सों में इन पंडालों के जरिए विभिन्न मुद्दों को भी दर्शाया जाता है। ऐसा ही एक पंडाल बंगाल के मुर्शिदाबाद में तैयार किया गया है जो लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींच रहा है। एलएसी पर चल रहे मौजूदा तनाव की झलक दुर्गा पंडालों में भी देखने को मिल रही है। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में बनाया गया यह पंडाल चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) की वजह से सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर रहा है। यहां असुर की जगह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पुतला लगाया गया है जिसमें मां दुर्गा असुर ‘जिनपिंग’ का संहार करती हुईं दिख रही हैं।


 

पंडाल में लगाई प्रवासी मजदूरों की मूर्तियां

इस साल कोरोना वायरस के चलते दुर्गा पूजा समारोह में भीड़ कम है, लेकिन फिर भी पंडाल लोगों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। सोशल डिस्टेसिंग के नियम भी आयोजकों और कारीगरों को पंडाल बनाने से नहीं रोक सके हैं। नवरात्रि (Navratri) के त्योहार में मां दुर्गा की पूजा होती है जो बुराई के प्रतीक राक्षस का वध करती है। पिछले हफ्ते, कोलकाता (Kolkata) में एक पंडाल में लगे एक पुतले के माध्यम से प्रवासी श्रमिकों की दुर्दशा पर प्रकाश डाला गया था।

 

 

कोलकाता के बेहाला इलाके में बारिशा दुर्गा पूजा समिति ने मां दुर्गा की मूर्ति की जगह पंडाल में प्रवासी मजदूरों की मूर्ति लगाई है और कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के संघर्षों को इस मूर्ति में दर्शाया गया है। पंडाल में उन माताओं को दिखाया गया है, जो कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन की वजह से अपने बच्चों को लेकर हजारों किलोमीटर पैदल यात्रा पर निकली थीं और किस तरह सोनू सूद ने भी मजदूरों की मदद की उनकी मूर्ती भी पंडाल में लगाई गई है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है