Covid-19 Update

2,17,140
मामले (हिमाचल)
2,11,871
मरीज ठीक हुए
3,637
मौत
33,504,534
मामले (भारत)
229,927,024
मामले (दुनिया)

श्रीलंका के इस मंदिर में आज भी है भगवान बुद्ध का दांत, हर दिन बढ़ रहा आकार

श्रीलंका के इस मंदिर में आज भी है भगवान बुद्ध का दांत, हर दिन बढ़ रहा आकार

- Advertisement -

हम लोग जिन महापुरुषों की बातें करते हैं या उनके बारे में किताबों में बढ़ते हैं जब उनसे जुड़ी किसी चीज के बारे में पता चलता है तो ये काफी रोचक होता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं भगवान बुद्ध (Lord Buddha) के बारे में जिन्हें हम सब गौतम बुद्ध के नाम से जानते हैं। गौतम बुद्ध की मृत्यु 483 ईस्वी पूर्व में हुई थी और इस बात को हजारों साल गुजर चुके हैं। लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि श्रीलंका (Sri Lanka) में एक ऐसा अद्भुत मंदिर है, जहां आज भी भगवान बुद्ध का दांत रखा हुआ है। मान्यता है कि भगवान बुद्ध का ये दांत बेहद शक्तिशाली है। यह भी कहा जाता है कि यह दांत हर दिन आकार में बढ़ रहा है। यह मंदिर श्रीलंका के कैंडी शहर में है।

यह भी पढ़ें: Ampere Vehicles लाई लीज प्रोग्राम: 1110 रुपए में घर ले आएं यह स्कूटी; जानें खासियत

कहते हैं कि गौतम बुद्ध के देह त्यागने के बाद उनका अंतिम संस्कार उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में हुआ था, लेकिन उनके एक अनुयायी ने उनकी चिता से उनका दांत निकाल कर राजा ब्रह्मदत्त के हवाले कर दिया था। भगवान बुद्ध के दांत राजा ब्रह्मदत्त के पास काफी समय तक रहे। अंत में भगवान बुद्ध के एक अनुयायी ने चोरी-छिपे दांत को चुराकर श्रीलंका पहुंचा दिया था। उस समय में कैंडी श्रीलंका की राजधानी हुआ करती थी। तब यहां के राजा ने अपने महल के पास ही भगवान बुद्ध के दांत के लिए विशाल मंदिर (Temple) का निर्माण कराया और दांत को उसी भव्य मंदिर में रख दिया। वर्ष 1603 में जब पुर्तगालियों (Portuguese) ने श्रीलंका पर हमला किया तो गौतम बुद्ध के उस दांत की रक्षा के लिए उसे दुम्बारा ले जाया गया, लेकिन बाद में फिर उसे कैंडी लाया गया तभी से यह दांत एक छोटी सी डिबिया में रखा हुआ है। मंदिर में हजारों लोग इस दांत के दर्शन करने आते हैं।

 

हर बुधवार को कराया जाता है सुगंधित पानी से स्नान

मालवत्ते और असगिरिया नामक दो बौद्ध संप्रदाय के भिक्षुक इस मंदिर के गर्भग्रह में दैनिक रूप से पूजा का आयोजन करते हैं। हर बुधवार को भगवान के पवित्र दांत को सुगंधित फूल मानुमुरा मंगलया से बने सुगंधित पानी से स्नान कराया जाता है। इसके बाद इस पवित्र जल को श्रद्धालुओं में प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है। इस जल को चंगाई की शक्तियों से युक्त माना जाता है। हालांकि डिबिया खोलकर किसी को भी वो दांत नहीं दिखाया जाता है। श्रीलंका के कैंडी शहर में हर साल जुलाई और अगस्त के महीने में ‘कैंडी पेराहेरा’ नाम का एक त्योहार मनाया जाता है। इस दौरान जिस डिब्बी में भगवान बुद्ध का दांत रखा हुआ है उसे पूरे शहर में घुमाया जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है