Covid-19 Update

2,00,085
मामले (हिमाचल)
1,93,830
मरीज ठीक हुए
3,418
मौत
29,823,546
मामले (भारत)
178,657,875
मामले (दुनिया)
×

करवा चौथ के दिन शहीद पति को दी अंतिम विदाई 

करवा चौथ के दिन शहीद पति को दी अंतिम विदाई 

- Advertisement -

ऊना। पूरे देश भर में जहां महिलाएं करवाचौथ पर अपने पति की लंबी उम्र की दुआएं मांग रही हैं, वहीं एक विवाहिता ऐसी भी है जिसने करवाचौथ के ही दिन अपने शहीद सैनिक पति को अंतिम विदाई दी। हिमाचल प्रदेश के ऊना ज़िले के बंगाणा की श्वेता के लिए इस बार करवाचौथ से एक दिन पहले ऐसी खबर आई जो उसे ज़िंदगी भर गर्व के साथ सालती रहेगी।
श्वेता के पति  14 पंजाब रेजीमेंट में तैनात रहे बृजेश कश्मीर में शुक्रवार सुबह आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे । बृजेश 14 पंजाब रेजीमेंट में 2003 में भर्ती हुए थे और वर्तमान में जम्मू के शोपियां में तैनात रहकर देश की रक्षा कर रहे थे। लेकिन शुक्रवार सुबह करीब 3 बजे आतंकवादियों से लोहा लेते हुए देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए। शनिवार को सेना के हेलीकॉप्टर से शहीद का पार्थिव शरीर पैतृक गांव ननावीं पहुंचाया गया, जहां सेना और प्रशासन की मौजूदगी में पूरे राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। 

आतंकवाद का मुंहतोड़ जवाब दें पीएम

 बृजेश अपने पीछे माता ,पत्नी ,एक 6 वर्षीय बेटी व एक भाई छोड़ गए हैं।  कहते हैं कि एक सैनिक के परिवार का हौंसला भी उसकी तरह देशभक्ति से सराबोर हो जाता है , इसकी बानगी शहीद बृजेश के परिवार में भी दिखाई दी । शहीद बृजेश की पत्नी श्वेता ने रुंधे स्वर में बताया कि उनके पति कहते थे कि पहले स्थान पर देश , दूसरे स्थान पर मां- बाप और फिर तीसरे स्थान पर पत्नी है । श्वेता ने बृजेश को देश का बहादुर बेटा बताया।
शहीद के परिवार ने पीएम से आतंकवाद का मुंहतोड़ जवाब देने और इसे जड़ से खत्म करने की अपील की है , ताकि किसी पत्नी का सुहाग ना उजड़े , किसी मां- बाप का बेटा ना जुदा हो। वहीं शहीद की मां ने उनके बेटे के सपने को पूरा करने के लिए सरकार से मदद की मांग उठाई। शहीद ब्रजेश अपनी बेटी को आईपीएस ऑफिसर बनाना चाहता था।
शहीद बृजेश के घर पहुंचे ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि प्रदेश सरकार शहीद बृजेश कुमार के परिवार को बीस लाख की आर्थिक सहायता, पत्नी को सरकारी नौकरी तथा बेटी की पढ़ाई का सारा खर्चा वहन करेगी। इसके अलावा शहीद के नाम पर गेट द्वार का निर्माण किया जाएगा तथा गांव को जाने वाली सड़क का नाम भी शहीद के नाम पर किया जाएगा। इस मौके पर वीरेंद्र कंवर ने शहीद की मां और पत्नी को सरकार की ओर से पांच लाख की आर्थिक सहायता का चेक भी भेंट किया।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है