Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

‘जलियांवाला बाग कांड के बाद जनरल डायर ने हरसिमरत के दादा के घर डिनर किया था’

‘जलियांवाला बाग कांड के बाद जनरल डायर ने हरसिमरत के दादा के घर डिनर किया था’

- Advertisement -

नई दिल्ली। लोकसभा (Loksabha) से जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक संशोधन बिल (Jallianwala Bagh National Memorial Amendment Bill) शुक्रवार को पास कर दिया गया है। जालियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक संशोधन बिल के विरोध में कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वॉक आउट किया है। केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल द्वारा पेश किए गए इस बिल में कांग्रेस अध्यक्ष को जलियांवाला बाग ट्रस्ट के स्थायी ट्रस्टी के पद से हटाने जाने की बात शामिल है। वहीं जलियांवाला बाग बिल को लेकर आम आदमी पार्टी के पंजाब से सांसद भगवंत मान (Aam Aadmi Party MP from Punjab Bhagwant Mann) ने एक बड़ा दावा किया है।


जलियांवाला बाग सबका है किसी की जागीर नहीं है

भगवंत मान का कहना है कि जलियांवाला बाग में हजारों लोगों को मारने के बाद जनरल डायर (General Dyer) ने हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) के दादा सुंदर सिंह मजीठिया के घर पर डिनर किया था। भगवंत मान ने कहा कि जलियांवाला बाग के बोर्ड में न कांग्रेस, न बीजेपी, न अकाली किसी दल को नहीं रखा जाना चाहिए। आज जलियांवाला बाग की घटना को 100 साल हो गए हैं। जलियांवाला बाग को देखने अब बहुत पर्यटक आते हैं।



यह भी पढ़ें: उन्नाव: सीबीआई ने मांगी सेंगर की कस्टडी, जांच के लिए 15 दिन का समय मिला

खासकर उस कुएं को जिसमें स्वतंत्रता सेनानियों ने कूदकर अपनी जान दे दी थी, लेकिन वहां के लिए क्या किया गया, कुछ भी नहीं। उन्होंने कहा, ‘अगर आप 100 साल बाद जलियांवाला बाग को याद कर रहे हैं तो पहली बात कांग्रेस, अकाली, बीजेपी से इसे आजाद करना चाहिए। जलियांवाला बाग सबका है किसी की जागीर नहीं है। इसके बोर्ड का चेयरमैन किसी भी राजनीतिक पार्टी का नहीं होना चाहिए।’


ऊधम सिंह का स्टैच्यू संसद भवन में होना चाहिए

भगवंत सिंह मान के मुताबिक जिस ऊधम सिंह (Udham Singh) ने 22 साल बाद इस घटना का बदला लिया, उसका कोई स्टैच्यू (Statue) नहीं है। ऊधम सिंह का स्टैच्यू संसद भवन (Parliament House) में होना चाहिए। वहीं सावरकर ने अंग्रेजों से डरकर मांफी मांगी और उसको सम्मान दिया जाता है। ऊधम सिंह ने कोई माफी नहीं मांगी, जबकि ऊधम सिंह ने जनरल डायर को गोली मारकर अपनी पिस्तौल दे दी थी। इसके बाद ऊधम सिंह ने कहा कि मैंने अपना बदला ले लिया।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है