×

हार पर बोले आश्रय, मुझे शहर से 1500 मत मिले थे, निगम में 7 हजार मत मिले, हम मजबूत हुए

कहा, सुखराम परिवार को बेवजह बनाया जा रहा निशाना

हार पर बोले आश्रय, मुझे शहर से 1500 मत मिले थे, निगम में 7 हजार मत मिले, हम मजबूत हुए

- Advertisement -

मंडी। नगर निगम चुनाव मंडी में कांग्रेस (Mandi Congress) को हार का सामना करना पड़ा है। नगर निगम मंडी (Municipal Corporation Mandi) में कांग्रेस 15 वार्ड में से मात्र चार वार्ड पर ही जीत दर्ज कर सकी है। इसके बाद से मीडिया में सुखराम परिवार के राजनीतिक प्रभाव कम होने को लेकर भी तरह-तरह की खबरें प्रकाशित की जा रही है। इन सबके बाद अब पंडित सुखराम के पोते और मंडी सदर से बीजेपी विधायक अनिल शर्मा के बेटे आश्रय शर्मा (Aashraya Sharma) ने कहा है कि पंडित सुखराम परिवार को बेवजह ही निशाना बनाया जा रहा है।


यह भी पढ़ें: मंडी वालों मजे लो और Mayor के नाम की चर्चाओं का दौर जारी रखना, कौन सा बिल आएगा

कांग्रेस के प्रदेश महासचिव आश्रय शर्मा (Ashray Sharma) ने कहा है कि मंडी नगर निगम चुनावों में कांग्रेस पार्टी को जो हार का सामना करना पड़ा है उसको लेकर मीडिया और सोशल मीडिया में पंडित सुखराम और उनके परिवार (Pandit Sukhram Family) को निशाना बनाया जा रहा है। जबकि यह चुनाव ना तो पंडित सुखराम ने लड़ा और न ही उनके परिवार ने। यह चुनाव पार्टी चुनाव चिन्ह पर था जिसमें पूरी पार्टी ने पूरे जी जान से मेहनत की और चुनाव लड़ा। यही कारण है कि आज मंडी नगर निगम में कांग्रेस पार्टी ने चार महत्वपूर्ण सीटों पर अच्छी जीत दर्ज की है।

यह भी पढ़ें: हमीरपुर में तेज होगी कांटेक्ट ट्रेसिंग, डीसी ने स्वास्थ्य विभाग को जारी किए निर्देश

आश्रय शर्मा ने कहा कि लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections) में मुझे बतौर कांग्रेस प्रत्याशी पूरे मंडी शहर से मात्र 1500 वोट मिले थे, जबकि आज पूरे शहर से कांग्रेस पार्टी को सात हजार से भी ज्यादा वोट मिले हैं। यह इस बात को दर्शाता है कि आज कांग्रेस पार्टी की स्थिति मजबूत हुई है। इस चुनाव को सीएम जयराम ठाकुर ने अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया था और यहां पर जीत दर्ज करने के लिए स्वयं सीएम और उनके कई मंत्री व विधायक गलियों में घूमे। उसका परिणाम यह रहा कि कांग्रेस पार्टी मंडी में तो हार गई, लेकिन पालमपुर और सोलन में जीत दर्ज करने में कामयाब रही। धर्मशाला में भी बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिल सका।

बकौल आश्रय, 94 वर्षीय पंडित सुखराम न तो चुनाव प्रचार में कहीं गए और नहीं उन्होंने किसी के पास जाकर वोट मांगे। कांग्रेस पार्टी के नेता होने के नाते उन्होंने वीडियो संदेश जारी किया था जबकि दूसरी तरफ सीएम और उनके मंत्री पूरी तरह से चुनाव मैदान में डटे रहे। मैं और कांग्रेस पार्टी के अन्य नेता और कार्यकर्ता पूरी मेहनत के साथ मैदान में रहे और उसका परिणाम यह निकला कि हमने खलियार, नेला, मंगवाईं और दौंहदी जैसे बड़े वार्डों में जीत हासिल की। इसलिए जो बातें पंडित सुखराम को लेकर कही जा रही हैं उनका मैं पूरी तरह से खंडन करता हूं। उक्त सारी बातें आश्रय शर्मा ने अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखी हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है