Covid-19 Update

3497
मामले (हिमाचल)
2278
मरीज ठीक हुए
16
मौत
2,325,026
मामले (भारत)
20,378,854
मामले (दुनिया)

2000 करोड़ से बन रहे देश के सबसे बड़े कैंसर अस्पताल में ओपीडी सेवा हुई शुरु

तीन चरणों में बनकर होगा तैयार

2000 करोड़ से बन रहे देश के सबसे बड़े कैंसर अस्पताल में ओपीडी सेवा हुई शुरु

- Advertisement -

नई दिल्ली। कैंसर का सबसे बड़ा अस्पताल हरियाणा के झज्जर जिलें में 2000 करोड़ की लागत से बन रहा है। मंगलवार से ही ओपीडी सेवा इस अस्पताल में शुरु कर दी गई है। उम्मीद जताई जा रही है कि नए साल में 19 जनवरी से इसमें आइपीडी (इन पेशेंट डिपार्टमेंट) सेवा शुरू कर दी जाएगी इसके बाद आने वाले दिनों में कैंसर के इलाज के लिए उत्तर भारत का यह सबसे बड़ा सेंटर बन जाएगा।


देश का सबसे बड़ा पब्लिक फंड से बना अस्पताल

हरियाणा के झज्जर जिले में देश के सबसे बड़े कैंसर अस्‍पताल ‘राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनसीआई)’ बन रहा है। मंगलवार से ओपीडी सेवा शुरू हो जाएगी।पिछले कई दशकों में भारत का सबसे बड़ा पब्लिक फंड से बना हॉस्पिटल प्रॉजेक्ट टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अस्पताल के ओपीडी ब्लॉक में सिविल काम और बुनियादी उपकरणों की स्थापना पूरी हो चुकी है। यह पिछले कई दशकों में भारत का सबसे बड़ा पब्लिक फंड से बना हॉस्पिटल प्रॉजेक्ट है। इसे 2035 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जा रहा है। एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलरिया को इस अस्‍पताल की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। उन्‍होंने बताया कि 710 बेड वाले इस अस्पताल में प्रारंभिक स्‍तर का सब काम पूरा हो गया है।

तीन चरणों में शुरू होगा एनसीआई

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलरिया ने कहा कि एनसीआई तीन चरणों में शुरू किया जाएगा। पहला चरण जनवरी से मार्च 2019 तक शुरू होने की संभावना है, ओपीडी सेवाएं और 250 बेड उपलब्ध होंगे। इसके बाद दिसंबर 2019 तक, इनडोर प्रवेश 500 बेड तक बढ़ाया जाएगा और फिर एक और साल में योजना पूरी तरह से संचालित करने के लिए तैयार की जा रही है। एनसीआई एम्स के मौजूदा कैंसर अस्पताल से बोझ कम करेगा, क्‍योंकि वहां रोजाना 1300 रोगियों को देखा जाता है।

मुख्य एम्‍स से करीब 50 किलोमीटर दूर है एनसीआई

झज्जर परिसर मुख्य एम्‍स से करीब 50 किलोमीटर दूर स्थित है लेकिन एनसीआई के साथ जुड़े अधिकारियों का कहना है कि वे दोनों परिसरों के बीच सेवाओं का समन्वय करने के लिए तकनीक का इस्तेमाल करने के बारे में प्लान बना रहे हैं। जैसे दोनों ही परिसरों के लिए मरीजों को एक यूनीक आईडी दी जाएगी।

 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

















सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है