आईजी की कार में सवार पुलिस कर्मियों ने चेकिंग के नाम पर प्रॉपर्टी डीलर से लूटी मोटी रकम

तीनों आरोपी सस्पेंड, गिरफ्तारी के लिए दबिश जारी

आईजी की कार में सवार पुलिस कर्मियों ने चेकिंग के नाम पर प्रॉपर्टी डीलर से लूटी मोटी रकम

- Advertisement -

देहरादून। चुनाव में धनराशि के दुरुपयोग को लेकर चल रही चेकिंग (Checking) का फायदा उठाते हुए दून के तीन पुलिस कर्मियों ने एक प्रॉपर्टी डीलर (Property dealer) से मोटी रकम लूट ली। हैरानी वाली बात यह है कि घटना में न केवल आईजी गढ़वाल अजय रौतेला की सरकारी स्कार्पियो (Government scorpio) प्रयोग की गई, बल्कि आरोपियों में शामिल एक दारोगा ने खुद को आईजी भी बताया। यह मामला तब खुला जब प्रॉपर्टी डीलर ने जब्त धनराशि को लेकर आयकर विभाग और पुलिस से जानकारी मांगी। कोई जानकारी न मिलने पर उसने पुलिस के आला अधिकारियों को पूरी घटना बताई।


यह भी पढ़ें :- आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर कार-ट्रक की भिड़ंत में 8 लोगों की मौत

एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि तीनों आरोपियों को सस्पेंड (suspend) कर दिया गया है। उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। प्रॉपर्टी डीलर अनुरोध पंवार निवासी कैनाल रोड, बल्लूपुर डब्ल्यूआइसी में अपने एक परिचित से प्रॉपर्टी के लेनदेन से संबंधित रकम लेने गए थे। वहां से लौटते समय होटल मधुबन के सामने एक सफेद रंग की स्कॉर्पियो के चालक ने ओवरटेक (Overtake) कर उन्हें रोक लिया।

आरोप है कि उनके रुकते ही स्कार्पियो से दो वर्दीधारी पुलिसकर्मी उतरे। चुनाव की चेकिंग के नाम पर उन्होंने कार की तलाशी ली और उसमें रखा कैश (Cash) से भरा बैग कब्जे में ले लिया। जब अनुरोध ने इसका कारण पूछा तो वर्दीधारियों ने बताया कि स्कार्पियो में आईजी गढ़वाल बैठे हैं और वे वाहनों में ले जाए जा रहे कैश की चेकिंग कर रहे हैं। कैश जब्त कर आइजी की गाड़ी में रख दिया गया और उन्हें धमकाकर वहां से जाने को कहा।

जब्त की हुई धनराशि नियमानुसार आयकर विभाग (Income tax department) के सुपुर्द की जाती है। लिहाजा अगले दिन अनुरोध आयकर कार्यालय पहुंचे। वहां कोई जानकारी न मिलने पर वह पुलिस कार्यालय पहुंचे, लेकिन यहां भी रकम को लेकर कोई जानकारी नहीं मिली। दो-तीन दिन भटकने के बाद अनुरोध पुलिस के आला अधिकारियों को सूचना दी तह जाकर बीती रात मामले का खुलासा हुआ। इसमें दून जनपद में तैनात दारोगा दिनेश सिंह नेगी ने खुद को आईजी बताया था, जबकि घटना में दो अन्य सिपाही मनोज व हिमांशु उपाध्याय शामिल थे। इनमें एक आरोपित आईजी का कार चालक है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है