Covid-19 Update

313
मामले (हिमाचल)
111
मरीज ठीक हुए
05
मौत
1,73,763
मामले (भारत)
59,68,693
मामले (दुनिया)

सालभर में छह माह बसता है पहाड़ का ये गांव, यहां की निराली है ये चीज

हनुमान जी यहीं से पर्वत का एक हिस्सा उखाड़ कर ले गए थे

सालभर में छह माह बसता है पहाड़ का ये गांव, यहां की निराली है ये चीज

- Advertisement -

लॉकडाउन के बीच पुनः प्रसारित होने वाले रामायण के चलते पहाड़ी प्रदेश उत्तराखंड का एक गांव बरबस ही याद आने लगता है। उत्तराखंड में नीति-माणा नाम से दो गांव पड़ते हैं जोकि एक-दूसरे से लगभग डेढ़ सौ किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं, लेकिन इनका नाम एक साथ ही लिया जाता है। माणा बद्रीनाथ से ऊपर बसा एक गांव है जबकि नीति उस पूरी घाटी को भी कहा जाता है जिसका विस्तार धौली गंगा नदी के इर्द-गिर्द फैलता हुआ तिब्बत की सीमाओं तक को छूता है। द्रोणागिरी इसी नीति घाटी में बसा एक बेहद खूबसूरत गांव है। यह गांव साल में सिर्फ छह माह ही आबाद होता है, लेकिन जब आबाद होता है तो इसका कोई मुकाबला नहीं रहता।


 

भोटिया जनजाति के लोगों का गांव है द्रोणागिरी

उत्तराखंड के चमोली जिले में जोशीमठ से मलारी की तरफ लगभग 50 किलोमीटर आगे चलने पर जुम्मा नाम की एक जगह पड़ती है, यहीं से द्रोणागिरी गांव के लिए पैदल मार्ग शुरू होता है। यहां धौली गंगा नदी पर बने पुल के दूसरी तरफ सीधे खड़े पहाड़ों की जो श्रृंखला दिखाई पड़ती है, उसे पार करने के बाद ही द्रोणागिरी तक पहुंचा जाता है। दस किलोमीटर का यह पैदल रास्ता काफी कठिन लेकिन रोमांचक है। द्रोणागिरी भोटिया जनजाति के लोगों का ही एक गांव है। लगभग 12 हजार फीट की ऊंचाई पर बसे इस गांव में करीब सौ परिवार रहते हैं। सर्दियों में द्रोणागिरी इस तरह बर्फ में डूब जाता है कि यहां रह पाना संभव नहीं। अक्टूबर तक सभी गांव वाले चमोली शहर के आस-पास बसे अपने अन्य गांवों में लौट जाते हैं। मई में जब बर्फ पिघल जाती है तभी गांव के लोग द्रोणागिरी वापस लौटते हैं।

 

फसलों को सहेज कर रखने के तरीके भी अद्भुत

सर्दियों में जब द्रोणागिरी के लोग गांव छोड़कर जाते हैं तो अपनी काफी फसल भी यहीं छोड़ जाते हैं। इन फसलों को सहेज कर रखने के तरीके भी अद्भुत हैं। मसलन आलू की जब अच्छी पैदावार होती है तो गांव के लोग जाते वक्त इसे कई बोरियों में भरकर घर के पास ही एक गड्ढे में दफना देते हैं। यह गड्ढा इस तरह से बनाया जाता है कि चूहे भी इसमें नहीं घुस पाते और आलू पूरे साल बिलकुल सुरक्षित रहते हैं। द्रोणागिरी गांव के लोग बताते हैं कि पहले उनका मुख्य काम तिब्बत से व्यापार करना था। भोटिया जनजाति के इन सभी लोगों के पास पहले सैकड़ों बकरियां, खच्चर और घोड़े हुआ करते थे। इन्हीं जानवरों की मदद से ये लोग नीति दर्रा पार करते हुए तिब्बत में दाखिल होते थे। लेकिन बीते कई वर्षों से इस व्यापार को बंद कर दिया गया है।

 

गांव में हनुमान जी की पूजा कभी नहीं होती

द्रोणागिरी अपने एक पौराणिक किस्से के चलते भी काफी चर्चित है। इस गांव में हनुमान जी की पूजा कभी नहीं होती, गांव के लोग हनुमान जी से नाराज़ हैं और उनके पास इसका कारण भी है। द्रोणागिरी गांव के लोग पर्वत देवता को अपना आराध्य मानते हैं और यहां सबसे बड़ी पूजा द्रोणागिरी पर्वत की ही होती है। यह वही द्रोणागिरी पर्वत है जिसका जिक्र रामायण में संजीवनी बूटी के संदर्भ में मिलता है। मान्यता है कि त्रेता युग में जब लक्ष्मण मूर्छित हुए थे तो हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने द्रोणागिरी ही आए थे और इस पर्वत का एक हिस्सा ही उखाड़ कर ले गए थे। गांव के लोग मानते हैं कि हनुमान जी उस समय उनके द्रोणागिरी पर्वत देवता की दाहिनी भुजा उखाड़ कर ले गए थे।

 

हर घर में गाय पर दूध-दही का सेवन वर्जित

गांव के लगभग हर घर में गाय पाली जाती है लेकिन सावन से पहले गांव में दूध-दहीं का सेवन बिलकुल नहीं किया जाता। सावन में गांव वाले हरियाली देवी की पूजा करते हैं और उन्हें दूध-दही का भोग लगाते हैं। इसके बाद ही लोग खुद दूध-दही खाना शुरू करते हैं। उनकी मान्यता है कि हरियाली देवी ही उनके पशुधन की रक्षा करती है लिहाजा देवी को भोग लगाने से पहले उनके लिए दूध-दही का सेवन वर्जित है। सावन से पहले यहां जो चाय भी बनती है उसमें दूश नहीं डाला जाता। यह चाय घी और नमक से बनाई जाती है जिसे यहां के लोग ज्या कहते हैं। इसमें कुछ पेड़ों की छाल भी डाली जाती है जिससे इसका रंग लगभग चाय जैसा ही हो जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Corona update: हिमाचल में आज 17 नए मामले, 24 मरीज हुए ठीक

चंबाः चुवाड़ी में बुजुर्ग महिला का Murder, बेटे पर लगा हत्या का आरोप

हमीरपुर और ऊना में Corona पॉजिटिव के 10 नए मामले-जानिए ट्रेवल हिस्ट्री

कांगड़ा जिला में पहली जून से खुलेंगी नाई की दुकानें, सैलून और Beauty Parlour- यह रहेंगी शर्तें

पहली जून से चलने वाली बसों को लेकर Notification जारी-जानिए पूरी खबर

Lockdown के दौरान राशन बांटने के मामले में दो आरोपियों को मिली जमानत

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

Corona Update: हिमाचल में 110 पहुंचा ठीक होने वालों का आंकड़ा, 23 आज जीते जंग

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

Mandi का युवक चंडीगढ़ में आया कोरोना पॉजिटिव, 2 ने जीती Corona से जंग

Exclusive: कांगड़ा में पकी BJP की खिचड़ी, Dhumal समर्थकों के बीच Kishan Kapoor भी जा बैठे

पायलट निकला Corona Positive: मास्को जा रही Air India की फ्लाइट बीच रास्ते से लौटी

कृषि Scientist का खुलासा- असली केसर के नाम पर ठगे जा रहे Himachal के किसान

Corona संकट में चली गई है Job तो यहां कराएं ऑनलाइन पंजीकरण

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

लाॅकडाउन के बीच Employment का मौका, Himachal में एक कंपनी भरने जा रही है 800 से ज्यादा पद

CBSE: 15,000 से अधिक सेंटरों में आयोजित होंगी 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाएं, जानिए डिटेल

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं की बची हुई परीक्षाएं 1 जुलाई से 14 जुलाई तक

CBSE: अपने ही स्कूलों में बचे हुए सब्जेक्ट्स के Exam देंगे छात्र; जानें कब आएगा रिजल्ट

D.EL.ED CET- 2020 की तिथि घोषित, 21 मई से करें ऑनलाइन आवेदन

सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करें Private School वरना होगी कड़ी कार्रवाई

CBSE: 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं में स्‍टूडेंट्स को पहनना होगा Mask; जानिए नए निर्देश

CBSE ने जारी की 10वीं-12वीं की Pending Exams की डेटशीट, जाने कब शुरू होंगे पेपर

12वीं Geography, कंप्यूटर साइंस और वोकेशनल परीक्षा को लेकर Board का बड़ा फैसला-जानिए

अर्धवार्षिक व प्री बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर मिलेंगे Practical के अंक

Himachal के सरकारी स्कूलों में 31 मई तक छुट्टियां, आदेश जारी

Corona से बचावः स्कूल शिक्षा बोर्ड ने की "नमस्ते भारत" अभियान की शुरुआत


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है