Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

छात्र विरोधी रवैये को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेगी एबीवीपी

छात्र विरोधी रवैये को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेगी एबीवीपी

- Advertisement -

बिलासपुर। बीवीपी ने छात्र विरोधी रवैये को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने का ऐलान कर दिया है। 17 अगस्त से लेकर 31 अगस्त तक चलने वाले विभिन्न कार्यक्रमों एवं रैलियों का शैड्यूल घोषित कर दिया है। हाल ही मंडी में हुई प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए प्रदेश कार्यसमिति सदस्य शिवांश वर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अभी तक रूसा के तहत हायर एजुकेशन कौंसिल के चेयरमैन की नियुक्ति नहीं की है। इस मुद्दे पर एबीवीपी ने सरकार से मांग की है कि इस पद किसी राजनीतिक व्यक्ति की अपेक्षा किसी शिक्षाविद को नियुक्त किया जाए। उन्होंने बताया कि 17 अगस्त को एबीवीपी कॉलेजों व विश्वविद्यालय में ज्ञापन सौंपेगी।

विश्वविद्यालय स्तर पर उपकुलपति व कॉलेज स्तर प्राचार्य को ज्ञापन सौंपा जाएगा। उन्होंने बताया कि इसी तरह बीस अगस्त को कृषि व वानिकी विवि नौणी में फीस वृद्धि सेंट्रल विवि में शिक्षक घोटाला, एससीए चुनाच, सेवानिवृत्त अधिकारियों की पुर्ननियुक्ति व कॉलेजों के शिक्षकों के रिक्त पदों के मुद्दे पर पूरे प्रदेश में सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन होगा। उन्होंने कहा कि 21 अगस्त को रेग्यूलेटरी बोर्ड के चेयरमैन का घेराव, 23 व 24 अगस्त को एससीए चुनाव को लेकर सांकेतिक भूख हड़ताल, स्थानीय मांगों पर प्रदर्शन होगा। जबकि 24 अगस्त को शिक्षा मंत्री को ज्ञापन सौंपा जाएगा। एबीवीपी 25 अगस्त से लेकर एक सितंबर तक नशे के खिलाफ अभियान चलाएगी। इस अवसर पर सह छात्रा प्रमुख नयना का कहना है कि इस बार मिशन साहसी के तहत पूरे देश में 31 अक्टूबर को कार्यक्रम होंगे। इस अवसर पर अन्य कार्यकर्ता भी मौजूद थे।


एससीए चुनाव बहाली को आंदोलन का रास्ता

शिमला। प्रदेश के कॉलेजों एवं एचपीयू में एससीए चुनाव बहाल करने के लिए अब छात्र संगठनों ने आंदोलन का रास्ता अपना लिया है। प्रदेश में बीजेपी की सरकार और बीजेपी समर्थक छात्र संगठन होने के नाते एबीवीपी एससीए चुनाव बहाल करने के लिए सरकार पर दबाव डालने की तैयारी में हैं। हालांकि पिछले तीन वर्षों से प्रदेश में अप्रत्यक्ष चुनाव हो रहे हैं, जो छात्र संगठनों को मंजूर नहीं हैं। हिमाचल विवि के पूर्व वीसी प्रो. एडीएन वाजपेयी ने अप्रत्यक्ष चुनाव करवाने का निर्णय अगस्त 2015 में लिया था। उससे पहले प्रत्यक्ष चुनाव यानी वोटिंग के माध्यम से करवाए गए।

एचपीयू कैंपस में हिंसात्मक वारदातों को अंजाम देने में छात्र संगठन पीछे नहीं रहे तो प्रो. वाजपेयी ने प्रत्यक्ष चुनाव पर रोक लगा दी थी। ऐसे में अब प्रदेश में बीजेपी की सरकार और विवि में बीजेपी समर्थक नए वीसी डॉ. सिकंदर कुमार की नियुक्ति होने से एबीवीपी को चुनाव बहाल होने की आस जगी है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सीएम जयराम ठाकुर दिल्ली से वापस शिमला आने के बाद एबीवीपी के पदाधिकारी उन्हें ज्ञापन सौंपेंगे। दूसरी तरफ आज प्रदेश के अधिकांश कालेजों में एसएफआई ने चुनाव बहाली के लिए आंदोलन का बिगुल भी बजा दिया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है