- Advertisement -

30 साल तक Court में चला मामला, 2016 में आया फैसला, आज हुई कार्रवाई 

Action taken by Administration on illegal encroachment on private land in hamirpur

0

- Advertisement -

पुलिस व प्रशासन की मौजूदगी में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की तामील, नौ दुकानों पर चला पीला पंजा

​हमीरपुर। निजी भूमि पर अवैध निर्माण का मामला 30 साल तक कोर्ट में चला, 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला तो सुना दिया पर कब्जा छुड़ाने का कार्रवाई में दो साल लग गए। मामला Hamirpur के भोटा चौक का है यहां पर निजी भूमि पर किए गए अवैध निर्माण पर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद आज कार्रवाई की गई। यहां पर भोटा चौक के पास निजी भूमि पर बनाई गई नौ दुकानों पर प्रशासन और पुलिस के पहरे में कार्रवाई हुई। इस अवैध निर्माण पर पीला पंजा चलाने से पहले चौक के आसपास भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया ताकि कोई अप्रिय घटना न हो सके।
जाहिर है कि साल 1988 में निजी भूमि पर अवैध निर्माण करके करीब नौ दुकानें बनाई गई थी और कोर्ट में करीब तीस साल तक चले मामले पर गत दो साल पहले 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने दुकानों को गिराने के आदेश दिए थे लेकिन कोर्ट का आदेश लगू करवाने में ही  हमीरपुर जिला न्यायालय को दो साल लग गए। जिस पर आज कार्रवाई करते हुए दुकानों  से कब्जा हटवाया गया है।

दो परिवारों के बीच चला था विवाद

Hamirpur के तहसीलदार मित्रदेव सिंह ने बताया कि दो परिवारों के बीच निजी भूमि का विवाद चला हुआ था और अब सुप्रीम  कोर्ट के द्वारा नौ दुकानों को गिराने के आदेश दिए है, जिसके तहत ही दूसरी पार्टी को कब्जा दिलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोर्ट में  मामला करीब तीस साल तक चला रहा है। वहीं सुप्रीम कोर्ट में केस जीतने वाले मालिक नरेन्द्र सिंह ने बताया कि 1988 से अवैध कब्जा किया गया था और तीस साल तक  कोर्ट में केस चला रहा है और अब सुप्रीम कोर्ट के आदेशों  के बाद कब्जा दिलाया जा रहा है। गौरतलब है कि कसौली में अवैध निर्माण हटाने के समय हुए गोली कांड घंटना के बाद अब प्रशासन और पुलिस दोनों चौकन्ने हो गए है। जिसके चलते ही आज सुबह से Hamirpur में भारी संख्या में पुलिस दल मौजूद रहा और इस अवसर पर एसपी रमन कुमार मीणा, डीएसपी रेणु  शर्मा, आईपीएस आकृति शर्मा,  तहसीलदार मित्रदेव सिंह भी मौके पर मौजूद रहे।

- Advertisement -

Leave A Reply