Expand

पिता के प्रोत्साहन ने बनाया पायलट

पिता के प्रोत्साहन ने बनाया पायलट

- Advertisement -

बिलिंग। पिता ने कहा कि तुम्हें भी क्षेत्र के अन्य लड़कों की तरह पैराग्लाइडिंग पायलट बनना चाहिए, फिर क्या था अपने अंदर हवा में उड़ने के अरमान पाल रही एक लड़की के अरमानों को पंख लग गए। चार महीने तक फ्लाइंग का प्रशिक्षण लेने के बाद आज वह लड़की देश विदेश के पायलट्स के साथ बुलंद हौसले के साथ मुकाबला करने के लिए तैयार है। बात हो रही है बीड़ गांव की रहने वाली अदिति ठाकुर की जो की इस अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में अपने क्षेत्र का ही नहीं बल्कि देश की ओर से भी प्रतिनिधित्व कर रही है। अपने इस बुलंद हौसले से वह अपने क्षेत्र के लोगों खासकर लड़कियों में रोल मॉडल बनी हुई है।

  • 11वीं की छात्रा ले रही प्रतियोगिता में भाग
  • बीड़ की रहने वाली पहली लड़की पायलट बनी है अदिति

jyoti-thakurप्रतियोगिता का शुभारंभ करने पहुंचे विधायक किशोरी लाल ने भी अदिति को बधाई देते हुए उसका हौसला बढ़ाया। हिमाचल अभी अभी से बातचीत के दौरान अदिति ने बताया कि बचपन से ही वह लोगों को आसमान में उड़ते देखती थी। उसकी भी तमन्ना थी कि वह भी किसी परिंदे की तरह आसमान में उड़ान भरे।

कुछ समय उसके पिता कुलदीप ठाकुर जो स्वयं भी पैराग्लाइडिंग गतिविधियों से जुड़े हुए हैं उन्होंने उसे पैराग्लाइडिंग करने के बारे में पूछा। उसकी इच्छा को मां श्रेष्ठा देवी की भी मंजूरी मिल गई। बस उसके बाद अदिति ने जमकर मेहनत की और उसी का नतीजा है कि चार माह के अभ्यास के बाद अदिति अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में भाग ले रही है। अदिति का सपना है कि वह ओलंपिक में पैराग्लाइडिंग स्पर्धा में देश का प्रतिनिधित्व करे।

अदिति ने बताया कि वह 11वीं कक्षा की छात्रा है और अब उसको देखकर अन्य लड़कियां भी पैराग्लाइडिंग सीखने में लगी हुई हैं। अदिति ने बताया कि उसका प्रयास है कि इंडियन नेशनल ओपन एक्यूरेसी चैंपियनशिप में वह अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवाए। बिलिंग क्षेत्र में पैराग्लाइडिंग गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए अदिति ने बिलिंग पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन, शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा और प्रदेश सरकार का आभार भी जताया है।

anurag-sharmaक्रॉस कंट्री इवेंट का जल्द होगा आयोजन

बिलिंग। पैराग्लाइडिंग के लिए दुनियाभर में अपनी पहचान बना चुकी बीड़ बिलिंग घाटी जल्द ही एक अन्य बड़े आयोजन का गवाह बनने जा रही है। बिलिंग पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन (बीपीए) ने इस बारे में एफएआई को अनुमति देने बारे आवेदन किया है। बीपीए डायरेक्टर अनुराग शर्मा ने बताया कि बीपीए ने ओपन और एशिया कैटेगरी दोनों के लिए आवेदन कर रखा है। अब एफएआई पर है कि कौन से इवेंट के लिए अनुमति मिलती है।

  • billing1एफएआई को बीपीए ने किया है आवेदन
  • दिसंबर में नहीं मिली अनुमति तो मार्च में होगी प्रतियोगिता
  • बीपीए डायरेक्टर अनुराग शर्मा ने दी जानकारी

उनका कहना है कि दिसंबर माह में यह प्रतियोगिता करवाने पर विचार किया जा रहा है। अब यह भी एफएआई पर निर्भर करता है कि दिसम्बर में इस प्रतियोगिता की अनुमति मिलती है या नहीं। अनुराग शर्मा ने कहा कि यदि दिसंबर में अनुमति नहीं मिलती है तो फिर मार्च माह में यह प्रतियोगिता आयोजित करवाने के प्रयास किए जाएंगे।

गौरतलब है कि क्रॉस कंट्री प्रतियोगिता में प्रतिभागियों को टास्क के रूप में एक निश्चित दूरी तय करनी होती है। यह दूरी 50 किलोमीटर से 200 किलोमीटर तक हो सकती है। गत वर्ष हुए पैराग्लाइडिंग वर्ल्ड कप में भी क्रॉस कंट्री मुकाबले आयोजित किए गए थे।

https://youtu.be/Vsgcc_Eh_lE

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है