- Advertisement -

अवाम की ताकत के आगे यूं झुका ड्रैगन, नहीं गिरा पाया मस्जिद 

3 अगस्‍त को मस्जिद ढहाने का नोटिस देने वाले शनिवार को पीठ दिखाकर भाग गए

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। अमेरिका के बाद दुनिया की दूसरी बड़ी महाशक्ति चीन को फिर अल्पसंख्यकों की ताकत झेलनी पड़ी है। निंक्‍स‍िआ प्रांत के विझाऊ में बड़ी मस्‍जिद (ग्रैंड मस्‍ज‍िद) को ढहाने के आदेश को जब हजारों लोगों ने डटकर चुनौती दी तो प्रशासन ने मस्जिद को हाथ भी न लगाने का वादा कर यू-टर्न ले लिया। 3 अगस्‍त को मस्जिद ढहाने का नोटिस देने वाले शनिवार को पीठ दिखाकर भाग गए। नोटिस सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। उसे पढ़कर हजारों की संख्या में मुसलमान मस्जिद के पास जमा हो गए। विरोध प्रदर्शनों के बीच प्रशासन के अधिकारी जब मस्जिद को गिराने आए तो लोगों का हुजूम देखकर उल्टे पैर वापस लौट गए। यह मस्‍ज‍िद HUI मुसलमानों की है। HUI समुदाय उइगर समुदाय के बाद चीन में सबसे ज्‍यादा आबादी वाला मुस्लिम समुदाय है।

मस्जिद को पगोडा बना दो

मस्‍ज‍िद का निर्माण हाल में हुआ है। चीन का संविधान वैसे तो किसी भी धर्म का पालन करने की आजादी देता है, लेकिन हाल के दिनों में सरकार ने मुस्‍ल‍िम इलाकों में काफी प्रतिबंध लगाए गए हैं। प्रशासन के अनुसार विझाऊ की बड़ी मस्‍जिद के निर्माण के लिए जरूरी परमिट नहीं लिए गए थे। मस्‍ज‍िदों की मीनारों को बौद्ध प्रार्थना स्‍थल के पगोडा जैसे ढांचे में बदला जाए। मुस्‍ल‍िम लोगों ने इसका विरोध किया। हालांकि लोगों द्वारा विरोध प्रदर्शन करने के बाद लोकल हेड ने लोगों को आश्‍वासन दिया कि मस्‍ज‍िद को तब तक हाथ नहीं लगाया जाएगा, जब तक इसको डिजाइन बदल कर दोबारा बनाने का प्‍लान पास नहीं हो जाता।

- Advertisement -

Leave A Reply