Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

अधिकारियों का ऐलानः 11 को सामूहिक अवकाश, 15 को रखेंगे उपवास

अधिकारियों का ऐलानः 11 को सामूहिक अवकाश, 15 को रखेंगे उपवास

- Advertisement -

officer protest : शिमला। अपने संशोधित वेतनमान लागू न करने से नाराज कृषि व बागवानी विभागों में तैनात अधिकारी अपनी मांगों को लेकर अब बड़ा कदम उठाने वाले हैं। कृषि व बागवानी विभागों के अधिकारियों ने 11 अप्रैल को सामूहिक अवकाश पर जाने का ऐलान किया है। अपनी मांगों को लेकर ये अधिकारी काले बिल्ले लगाकर अपना विरोध जता रहे हैं, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। इससे नाराज इन अधिकारियों ने 10 अप्रैल तक काले बिल्ले लगाकर अपना विरोध जताते हुए कार्य करने का निर्णय लिया है।

  • कृषि व बागवानी अधिकारी काले बिल्ले लगाकर जता रहे हैं विरोध
  • फिर भी नहीं मानी मांगें तो 16 के बाद बड़े आंदोलन की बनेगी रणनीति 

कृषि और बागवानी विभाग की संयुक्त समन्वय समिति ने फैसला किया है कि वे 11 अप्रैल को एक दिन के सामूहिक अवकाश पर जाएंगे। अपना विरोध जताने के लिए कृषि व बागवानी विभाग के अधिकारियों ने हिमाचल दिवस के मौके पर 15 अप्रैल को छुट्टी वाले दिन उपवास रखकर पंचायत से जिला स्तर तक के कृषकों व बागवानों के साथ गोष्ठियों का आयोजन करने का भी निर्णय लिया है।


समिति का कहना है कि यदि फिर भी कोई सुनवाई नहीं होती तो वे 16 अप्रैल को आगे की रणनीति तय कर बड़ा आंदोलन की रूप रेखा बनाई जाएगी।  कृषि व बागवानी विभाग की संयुक्त संघर्ष समिति ने चेतावनी दी है कि यदि सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती तो वे बड़ा आंदोलन करेंगे। समिति का कहना है कि कृषि व बागवानी विभाग के अधिकारी कई बार अपनी मांग को लेकर सीएम वीरभद्र सिंह से मिलकर अधिसूचना को जल्द जारी करने का आग्रह कर चुके हैं, लेकिन समाधान के लिए सरकार की तरफ से कोई कदम नहीं उठाया गया है।

कृषि अधिकारियों की दो टूकः मांगें न मानी तो होगा सामूहिक उपवास

ऐसे में अब उनके पास सिवाय आंदोलन में जाने के और कोई रास्ता नहीं है। समिति के संयोजक डॉ. देवेंद्र ठाकुर के मुताबिक कृषि व बागवानी विभाग के सभी अधिकारियों ने ईमानदारी से सरकार की नीतियों को जन-जन तक पहुंचाने में दिन रात मेहनत की है, लेकिन सरकार उनकी मांगों के प्रति उदासीन है। इस कारण उन्हें मजबूर होकर यह कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि वे 26 मार्च से विरोध प्रदर्शन के तौर पर काली पट्टियां बांध कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है