Covid-19 Update

1,58,472
मामले (हिमाचल)
1,20,661
मरीज ठीक हुए
2282
मौत
24,684,077
मामले (भारत)
163,215,601
मामले (दुनिया)
×

अहोई अष्टमीः संतान की खुशहाली के लिए किया जाता है यह व्रत

अहोई अष्टमीः संतान की खुशहाली के लिए किया जाता है यह व्रत

- Advertisement -

कार्तिक मास की कृष्णपक्ष की अष्टमी को अहोई माता का व्रत किया जाता है। यह व्रत बच्चों की खुशहाली के लिए किया जाता है। इस साल यह व्रत 21 अक्तूबर को है। इस व्रत में मां रात को तारें देखकर ही अपने पुत्र के दीर्घायु होने की कामना करती हैं और उसके बाद ही व्रत खोलती हैं। इसके अलावा नि:संतान महिलाएं पुत्र प्राप्ति की कामना से यह व्रत करती हैं।
अहोई अष्टमी के व्रत के दिन प्रात: उठकर स्नान कर पूजा के समय संकल्प लिया जाता है। अनहोनी से बचाने वाली माता देवी पार्वती हैं इसलिए इस व्रत में मां पार्वती की पूजा की जाती है। अहोई माता की पूजा के लिए गेरू से दीवार पर मां का चित्र बनाया जाता है और साथ ही स्याहु और उसके सात पुत्रों का चित्र भी निर्मित किया जाता है। मां सामने चावल की कटोरी, मूली, सिंघाड़े रखते हैं और सुबह दीया रखकर कहानी कही जाती है।



कहानी कहते समय जो चावल हाथ में लिए जाते हैं, उन्हें साड़ी/ सूट के दुप्पटे में बांध लेते हैं। सुबह पूजा करते समय लोटे में पानी और उसके ऊपर करवे में पानी रखते हैं। इस में खास बात यह है कि जो करवा रखा जाता है वह करवा चौथ में इस्तेमाल हुआ होना चाहिए। इस करवे का पानी दिवाली के दिन पूरे घर में भी छिड़का जाता है। संध्या काल में इन चित्रों की पूजा की जाती है। पके खाने में चौदह पूरी और आठ पूयों का भोग अहोई माता को लगाया जाता है। उस दिन बयाना निकाला जाता हैजिसमें चौदह पूरी या मठरी या काजू होते हैं। शाम को तारों को अर्द्य दिया जाता है।

अहोई पूजा में चांदी की अहोई बनाई जाती है जिसे स्याहु कहते हैं। इस स्याहु की पूजा रोली, अक्षत, दूध व भात से की जाती है। पूजा चाहे आप जिस विधि से करें लेकिन दोनों में ही पूजा के लिए एक कलश में जल भर कर रख लें। पूजा के बाद अहोई माता की कथा सुने और सुनाएं। पूजा के पश्चात अपनी सास के पैर छूकर उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। इसके पश्चात व्रती अन्न जल ग्रहण करती है।

अहोई अष्टमी व्रत की तिथि: 8 नवंबर, 2020 (रविवार) अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त- 17:31 से 18:50 अष्टमी
तिथि प्रारंभ- नवंबर 08, 2020 को 07:2 9 बजे अष्टमी तिथि समाप्त- नवंबर 09, 2020 को 6:50 बजे

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है