Covid-19 Update

59,032
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
116,748,718
मामले (भारत)
11,192,088
मामले (दुनिया)

Mandi Degree College में हर रोज होता है देव मिलन

Mandi Degree College में हर रोज होता है देव मिलन

- Advertisement -

मंडी। आस्था के महाकुंभ में इस बार पंजीकृत 215 में से 187 देवताओं ने शिवरात्रि महोत्सव में हाजिरी भरी है। इसके साथ ही जिन देवताओं का पंजीकरण नहीं हुआ है वह भी छोटी काशी में अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए पहुंचे हैं। इस देव महाकुंभ के सात दिनों के दौरान रोजाना सभी देवी-देवता डिग्री कॉलेज मंडी के परिसर में बैठते हैं। सुबह होते ही देवी-देवताओं के साथ आए देवलु देवरथों के साथ डिग्री कॉलेज परिसर पहुंच जाते हैं। सबसे पहले शुरू होती है देव मिलन की रस्म।

  • इस बार पंजीकृत 215 में से 187 देवताओं ने शिवरात्रि महोत्सव में भरी हाजिरी

आसपास के इलाकों से आए देवी-देवताओं के रथ झूमते हुए एक-दूसरे से मिलते हैं। यह अलौकिक नजारा कम ही देखने को मिलता है। इसके बाद देवरथों को आसन पर बैठा दिया जाता है और फिर भक्त यहां पर आकर इन सभी के दर्शन करते हैं। भक्त धूप जलाकर अपने लिए मन्नतें मांगते हैं।

देव माहूंनाग के पुजारी डिकपाल शास्त्री ने बताया कि जिनकी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं वह अगले वर्ष फिर से देवी-देवताओं के दर्शनों के लिए आते हैं, जबकि कुछ इस बार मनोकामना मांगकर अगले वर्ष फिर से आने का संकल्प लेते हैं। भक्तों को वर्ष भर इस महाकुंभ का इंतजार रहता है क्योंकि 200 से भी अधिक देवी-देवताओं के मंदिरों तक पहुंचना और वहां पर जाकर उनका आशीर्वाद लेना किसी के लिए भी संभव नहीं।

ऐसा करने पर एक ही भक्त को लाखों रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं, जबकि शिवरात्रि महोत्सव ही एक ऐसा पर्व होता है जब लोगों को इन सभी के दर्शन एक ही स्थान पर हो जाते हैं। प्रदेश के अधिकतर लोग ऐसे हैं जो इस महोत्सव  में इसी कारण आते हैं क्योंकि उन्हें इतने अधिक देवी-देवताओं के दर्शनों का मौका मिलता है। शिवरात्रि महोत्सव में आने वाले देवी-देवताओं का वर्णन रामायण और महाभारत में मिलता है और अधिकतर देवी-देवता ऐसे दुर्गम स्थानों पर रहते हैं जहां तक पहुंच पाना हर किसी के लिए संभव नहीं। जितने भी देवी-देवता हैं उन सभी की अपनी-अपनी मान्यताएं और धारणाएं हैं। भक्त बड़ी विनम्रता से इनके आगे नतमस्तक होकर अपने लिए सुख समृद्धि की कामना करते हैं, क्योंकि उन्हें ऐसा सौभाग्य वर्ष में सिर्फ एक बार ही प्राप्त हो पाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है