Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

गोबिंद सागर झील के बीच बना ये अद्भुत मंदिर, चारों तरफ है पानी ही पानी

गोबिंद सागर झील के बीच बना ये अद्भुत मंदिर, चारों तरफ है पानी ही पानी

- Advertisement -

ऊना। चारों तरफ पानी ही पानी और बीच में बना है सुंदर मंदिर, हम बात कर रहे हैं कुटलहैड़ विधानसभा क्षेत्र के अंदरौली (रायपुर मैदान) के तहत गोबिंद सागर झील ( Gobind Sagar lake) के बीच में बने बाबा गरीब नाथ मंदिर की। यहां पर ऊना हमीरपुर जिलों के अलावा पड़ोसी राज्य पंजाब से सैंकड़ों लोग वीकएंड (Weekend) मनाने और साथ ही
मंदिर के दर्शन करने के लिए भी आते हैं। बरसात के दिनों में गोबिंद सागर झील का स्तर ऊपर आ जाता है, जिसकी वजह से यह मंदिर जुलाई से नवंबर माह तक चारों से तरफ पानी से घिरा रहता है। इन दिनों मंदिर को देखने के लिए बाहरी पर्यटक भी अंदरौली पहुंच रहे हैं। छुट्टी वाले दिन तथा वीकेंड पर अंदरौली में खासी भीड़ रहती है। यहां आने वाले पर्यटक पहले सभी झील में बने बाबा गरीब नाथ मंदिर के दर्शन करते हैं। इसके बाद गोबिंद सागर झील में मोटर बोट का लुत्फ उठाते हैं। मंदिर परिसर में भगवान शिव की विशालकाय प्रतिमा आकर्षण का केंद्र है। इसके अलावा माता वैष्णो देवी की गुफा बनाई गई है। इस मंदिर में हिमाचल, पंजाब और हरियाणा काफी संख्या में श्रद्धालु मन्नत मांगने आते हैं।


यह भी पढ़ें :-मणिमहेश से लौट रहे नगरोटा के श्रद्धालुओं का वाहन खाई में गिरा


ऐसे पहुंचे गरीबनाथ मंदिर

अंदरौली स्थित बाबा गरीबनाथ का प्राचीन मंदिर थानाकलां-भाखड़ा सड़क पर पड़ता है और इसकी हाईवे से अच्छी कनेक्टीविटी है। मंदिर को देखने के लिए रोजाना सैंकड़ों लोग आ रहे हैं क्योंकि इन दिनों मंदिर चारों तरफ झील के पानी से घिरा हुआ है। मंदिर आने-जाने के लिए मोटर बोट की व्यवस्था की है। महज दस रुपए में मोटर बोट से मंदिर आ जा सकते हैं। इस मंदिर के लिए ऊना से बीहडू नेशनल हाईवे 503ए के रास्ते पहुंचा जा सकता है। वहीं नंगल पंजाब की तरफ से आने वाले लोग भाखड़ा के रास्ते अंदरौली पहुंच सकते हैं, जबकि हमीरपुर की तरफ से आने वाले लोग थानाकलां-मंदली के रास्ते इस जगह पहुंच सकते हैं। इस जगह के लिए बस सुविधा भी उपलब्ध है।


बाबा गरीबनाथ की तपोस्थली

गोबिंद सागर झील के बीच मंदिर बाबा गरीब नाथ की तपोस्थली है। कहा जाता है कि इस स्थान पर बाबा गरीब नाथ ने लगभग 40 साल तक घोर तपस्या की थी। मंदिर परिसर में अमलताश का लगभग 500 वर्ष पुराना पेड़ भी है, जिस जगह बाबा गरीब नाथ की प्रतिमा स्थापित की गई है। स्थानीय लोगों के मुताबिक गोबिंद सागर झील से पहले इस स्थान पर बहुत घना जंगल होता था। लेकिन 60 के दशक में गोबिंद सागर झील बनने से अब मंदिर का हिस्सा ही शेष रह गया है। इस एरिया में प्रदेश सरकार का वाटर स्पोर्ट्स गतिविधियां शुरू करने की योजना है। इसके लिए कुटलैहड़ पर्यटन विकास समिति गठित की गई है। जिससे अंदरौली, रायपुर मैदान, दोबड़ और बडौर में पर्यटन को बढ़ावा मिलने की उम्मीद बंध गई है।



पर्यटन को बढ़ावा देने की कोशिश

डीसी ऊना संदीप कुमार ने कहा कि जिला ऊना में बाबा गरीब नाथ मंदिर के साथ-साथ अनेकों रमणीक स्थल हैं। इन पर्यटक स्थलों को विकसित कर यहां पर आधारभूत ढांचा मजबूत करने के प्रयास किए जा रहे हैं। जल्द ही गोबिंद सागर झील में जल क्रीडाएं शुरू होंगी। इसके अलावा मंदिर पीर गौंस का जीर्णोद्धार 11 करोड़ रुपए की लागत से किया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है