Covid-19 Update

2,16,813
मामले (हिमाचल)
2,11,554
मरीज ठीक हुए
3,633
मौत
33,437,535
मामले (भारत)
228,638,789
मामले (दुनिया)

अवैध ढंग से घुसे 161 Indian’s को इसी हफ्ते वापस भेजेगा US; हरियाणा के हैं सबसे अधिक

अवैध ढंग से घुसे 161 Indian’s को इसी हफ्ते वापस भेजेगा US; हरियाणा के हैं सबसे अधिक

- Advertisement -

नई दिल्ली। अमेरिका (US) उन 161 भारतीयों (Indian’s) को वापस भारत भेजेगा जो मेक्सिको के ज़रिए वहां अवैध ढंग से घुसे थे और सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल कर चुके हैं। इनमें से अधिकतर गैर कानूनी तरीके से मेक्सिको से लगी दक्षिणी सीमा से देश में दाखिल हुए थे। विशेष विमान में उन्हें पंजाब (Punjab) के अमृतसर ले जाया जाएगा। इनमें सबसे अधिक 76 लोग हरियाणा के हैं। इसके बाद पंजाब के 56 , गुजरात के 12 , उत्तर प्रदेश के पांच, महाराष्ट्र के चार, केरल, तेलंगाना और तमिलनाडु के दो-दो और आंध्र प्रदेश तथा गोवा का एक-एक व्यक्ति है। 161 लोगों में तीन महिलाएं हैं और हरियाणा (Haryana) का 19 वर्षीय एक किशोर भी है।

यह भी पढ़ें: बांग्लादेशी डॉक्टर ने खोजा Covid-19 के इलाज के लिए प्रभावी दवा कॉम्बिनेशन; 4 दिन में ठीक हुए संक्रमित

ये सभी अवैध ढंग से अमेरिका में घुसते हुए पकड़े गए थे

इन लोगों के अलावा जो लोग अब भी अमेरिका के जेलों में बंद है उनका क्या होगा, अभी इस पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी असोसिएशन के अनुसार, ये उन 1739 भारतीयों में से हैं जो 95 अमेरिकी जेलों में बंद हैं। ये सभी अवैध ढंग से अमेरिका में घुसते हुए पकड़े गए थे। इन्हें अमेरिका के कस्टम या इमिग्रेशन विभाग ने गिरफ्तार किया है। आईसीई की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका ने 2018 में 611 और 2019 में 1,616 भारतीयों को वापस भेजा था।

यह भी पढ़ें: प्रवासियों के पलायन पर Kuldeep Rathore-गुरकीरत सिंह ने जताई चिंता, सरकार को ठहराया दोषी

30 से 35 लाख रुपए देकर इस तरह करते हैं प्रवेश का प्रयास

उत्तर अमेरिकी पंजाबी संघ (एनएपीए) के कार्यकारी निदेशक सतनाम सिंह चहल ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उत्तर भारत में सक्रिय कुछ एजेंटों की वजह से अमेरिका में गैर-कानूनी ढंग से आने वाले भारतीयों की संख्या बढ़ी है। एजेंट एक व्यक्ति को अमेरिका भेजने के लिए 30 से 35 लाख रुपए लेते हैं। लोगों को वैध दस्तावेज नहीं दिए जाते। ऐसे में पकड़े जाने पर ये लोग भारत में हिंसा या उत्पीड़न होने की बात कहकर अमेरिका में शरण मांगते हैं। हालांकि, पिछले कुछ साल से अमेरिकी जज इन लोगों की याचिकाएं खारिज कर रहे हैं। इससे उनकी मुश्किलें बढ़ जाती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है