Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

Coronavirus खा गया बॉडी बिल्‍डर के 6 पैक एब्‍स; 6 हफ्ते में 23Kg वज़न हुआ कम

Coronavirus खा गया बॉडी बिल्‍डर के 6 पैक एब्‍स; 6 हफ्ते में 23Kg वज़न हुआ कम

- Advertisement -

नई दिल्ली। चीन के वुहान से उपजे कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में जारी है। अमेरिका (United States) में कोविड-19 संक्रमण के व्यापक प्रसार के चलते हालात काफी चिंताजनक हैं। इस सब के बीच अमेरिका (US) के कैलिफोर्निया से एक बहुत ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां के एक शख्स ने कोविड-19 के इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद की तस्वीरें शेयर की हैं। शख्स का वज़न (Weight) इलाज शुरू होने से पहले 86 किलोग्राम था जो घटकर 63 किलोग्राम रह गया। उसने कहा, ‘मैं सबको दिखाना चाहता था कि 6 हफ्तों तक वेंटिलेटर पर रहना कितना बुरा हो सकता है।’

उनके पास इतनी ताकत नहीं थी कि वे अपना फोन उठा सकें

रिपोर्ट्स के अनुसार 43 वर्षीय नर्स माइक शल्ट्ज 2 महीने पहले से कोरोना वायरस पीड़ित लोगों का इलाज कर रहे थे। जिंदगी अच्छी चल रही थी। लेकिन एक दिन वो खुद कोरोना संक्रमित हो गए। वह मार्च में कोविड-19 (Covid 19) से संक्रमित हो गए थे। तबसे अस्‍पताल में ही हैं। माइक इन छह हफ्तों में अपना सुगठित शरीर खो चुके थे। वे बेहद कमजोर दिख रहे थे। शरीर सूख गया था। माइक कहते हैं कि उनके पास इतनी ताकत नहीं थी कि वे अपना फोन उठा सकें। उन्हें उनका मोबाइल भी भारी लगता था। उन्होंने अपनी दो तस्वीरें अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की हैं।

यह भी पढ़ें: Rape के आरोप पर बोले शहनाज के पिता: मैं पूरे दिन अपने घर पर था, गुनहगार हूं तो फांसी भी मंज़ूर

मुझे ऐसे लग रहा था कि मैं दुनिया का सबसे कमजोर इंसान हूं

इसमें से एक फोटो अस्‍पताल में भर्ती होने के एक महीने पहले की है। वहीं दूसरी कोरोना संक्रमित होने के बाद अस्‍पताल में रहने के दौरान की है। पहली वाली फोटो में वो काफी तंदुरुस्‍त दिख रहे हैं। उनके डोलों में उभार है। सीना चौड़ा है। पेट अंदर है और 6 पैक एब्‍स भी देखे जा सकते हैं। वहीं दूसरी फोटो में उनका शरीर बेहद दुर्बल नजर आ रहा है। उन्होंने बताया कि वे कोई मैसेज भी टाइप नहीं कर पाते थे, क्योंकि उनकी उंगलियां कांपती थीं। माइक बताते हैं कि ये बेहद डरावना था। मुझे ऐसे लग रहा था कि मैं दुनिया का सबसे कमजोर इंसान हूं। संक्रमित होने से पहले माइक को लगता था कि वे इतनी एहतियात बरतते हैं। सबकी सेवा करते हैं। सेहत भी अच्छी है। इसलिए उन्हें कोरोना वायरस का असर नहीं होगा। लेकिन जब कोरोना से संक्रमित हुए तो उनकी ये हालत हो गई।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है