Covid-19 Update

1,53,717
मामले (हिमाचल)
1,11,878
मरीज ठीक हुए
2185
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

#Himachal: आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सताने लगी भविष्य की चिंता, #CM से उठाई यह मांग

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्री नर्सरी अध्यापिका पद पर नियुक्त को आवाज बुलंद

#Himachal: आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सताने लगी भविष्य की चिंता, #CM से उठाई यह मांग

- Advertisement -

फतेहपुर। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं (Anganwadi Workers) को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। इसका कारण स्कूलों में शुरू हो रही प्री नर्सरी कक्षाएं हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने नर्सरी अध्यापक (Nursery Teacher) के लिए बनाए जा रहे भर्ती एवं पदोन्नति नियमों में वरीयत देने की मांग उठाई है। इस बारे आज हिमाचल सुपरवाइजर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका कल्याण संघ ब्लॉक फतेहपुर जिला कांगड़ा की कार्यकर्ताओं ने ब्लॉक अध्यक्ष सीमा शर्मा की अध्यक्षता में नायब तहसीलदार फतेहपुर के माध्यम से सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) को ज्ञापन भेजा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्री नर्सरी अध्यापिका पद पर नियुक्त करने की मांग उठाई। अध्यक्ष सीमा शर्मा ने बताया कि शिक्षा विभाग शीघ्र ही प्री नर्सरी (Pre Nursery) सभी स्कूलों में चलाने जा रहा है, जिसमें 3 वर्ष का बच्चा दाखिला ले पाएगा। वर्तमान में 3 वर्ष का बच्चा आंगनबाड़ी केंद्र में प्री स्कूलिंग की शिक्षा ग्रहण कर रहा है। वर्तमान में 3 वर्ष से 5 वर्ष की प्री स्कूलिंग आंगनबाड़ी केंद्रों में हो रही है, अगर 3 साल का बच्चा सरकारी स्कूलों में जाएगा तो फिर आंगनबाड़ी केंद्र पर बंद होने का खतरा मंडराने लगेगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का भविष्य अंधकारमय हो जाएगा। वर्तमान में 38 हजार परिवार की रोजी-रोटी सीधे आंगनबाड़ी केंद्र से जुड़ी हुई है।


यह भी पढ़ें: School की तर्ज पर पूरी तरह बंद हों आंगनबाड़ी केंद्र, कर्मियों को मिलें छुट्टियां

वर्तमान में लगभग 19 हजार से अधिक आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से सरकार की सेवाओं व स्कीमों का संचालन किया जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को विभाग के द्वारा ईसीसीई (प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा) का प्रशिक्षण भी दिया गया है, जिसका मुख्य उद्देश्य बच्चों को खेल-खेल में सिखाना होता है। 0-6 साल तक के बच्चों का चहुंमुखी विकास करना होता है। जिस बात पर नई शिक्षा नीति (New Education Policy) विशेष बल दे रही है। नर्सरी अध्यापकों के लिए बन रहे भर्ती एवं पदोन्नति नियमों में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के अनुभव को देखते हुए उन्हें नियुक्ति में वरीयता दी जाए, ताकि उनके इस अनुभव का फायदा विभाग और सरकार को मिल सके। ‘प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल व शिक्षा’ के डिप्लोमे को भी नर्सरी अध्यापिका के लिए बन रहे भर्ती एवं पदोन्नति नियम (Recruitment and Promotion Rules) में शामिल किया जाए, ताकि कार्यकर्ताओं का भविष्य भी सुरक्षित रह सके। वर्तमान में बहुत सारे आंगनबाड़ी केंद्र प्राइमरी स्कूलों में पहले से चल रहे हैं, ऐसी स्थिति में प्रशिक्षित अध्यापिका शिक्षा विभाग को मिल पाएंगी। नायब तहसीलदार फतेहपुर सुशील कुमार ने बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन दिया है, जिसे सीएम को भेज दिया जाएगा। इस मौके पर इंदू बाला, सरिता शर्मा, वीना देवी, सरोज कुमारी, रेखा देवी, नीलम कुमारी व शीला देवी भी उपस्थित रहे।


 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है