- Advertisement -

प्रदेश भर में आंगनबाड़ी वर्करों का विरोध दूसरे दिन भी जारी

सरकारी स्कूलों में प्री नर्सरी कक्षाओं का किया विरोध

0

- Advertisement -

मंडी। प्रदेश भर में प्राइमरी स्कूलों में प्री नर्सरी कक्षाओं के विरोध और अपने मानदेय बढ़ोतरी की मांग को लेकर धरने पर बैठी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का धरना प्रदर्शन मंगलवार को भी जारी रहा।

मंडी के ऐतिहासिक सेरी चाणनी परिसर में गोहर खंड से आई सैंकड़ों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन करके सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बता दें कि 22 से 29 अक्तूबर तक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सीटू के बैनर तले पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं यह आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने मानदेय में बढ़ोतरी की मांग भी उठा रही हैं और हरियाणा की तर्ज पर वेतन देने की गुहार लगा रही हैं। आंगनबाड़ी वर्कर एंड हैल्पर यूनियन जिला मंडी की प्रधान हमिंद्री शर्मा ने बताया अगर सरकार जल्द ही इनकी मांगों पर गौर नहीं फरमाती है तो फिर 11 और 12 नवंबर को शिमला में होने वाले सम्मेलन में सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी।

शिमला। आंगनबाड़ी ठियोग प्रोजेक्ट द्वारा अपनी मांगों को लेकर डीसी ऑफिस शिमला के बाहर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन में जिला महासचिव विजेंद्र मेहरा, कोषाध्यक्ष रमाकांत मिश्रा, जिला सचिव बाबू राम, आंगनवाड़ी यूनियन जिला सचिव हिमी देवी, ठियोग प्रोजेक्ट अध्यक्ष आशा, महासचिव आरती, गीता, कला, सत्या, रोशनी, मूरतो, ममता, रीना, लता, मीना, संतोष, सुनीता, मीरा, सुभद्रा, पूना, संगीता, सरला व कमला आदि ने भाग लिया। इस अवसर पर ठियोग प्रोजेक्ट अध्यक्ष आशा ने कहा है कि प्रदेश व्यापी प्रदर्शनों के तहत ठियोग प्रोजेक्ट के नौ सर्कलों के लगभग 250 केंद्र बिल्कुल बन्द रहे व पूर्ण हड़ताल रही। इस दौरान 250  आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यरत 500 कर्मियों ने काम पूरी तरह बन्द रखा व वह डीसी ऑफिस शिमला के बाहर आंदोलन पर उतरे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने प्री नर्सरी को प्राथमिक स्कूलों में चलाने की अधिसूचना जारी करके आंगनबाड़ी कर्मियों के रोजगार पर हमला किया है। इसके खिलाफ आंगनबाड़ी कर्मी आंदोलन तेज़ करेंगे।

- Advertisement -

Leave A Reply