×

दूसरा मामलाः सिविल Hospital में करवाया Operation चली गई रोशनी

दूसरा मामलाः सिविल Hospital में करवाया Operation चली गई रोशनी

- Advertisement -

फतेहपुर। ऑपरेशन करवाने के बाद आंखों की रोशनी जाने का दूसरा मामला सामने आया है। टकबाल की विधवा महिला की रोशनी कम होने के बाद अब कुटबासी पंचायत के एक बुजुर्ग की आंखों की रोशनी कम हो गई है। इस बुजुर्ग ने भी सिविल अस्पताल फतेहपुर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सौजन्य से आयोजित बहु विशेषज्ञ शल्य चिकित्सा शिविर में आंखों का ऑपरेशन करवाया था। वहीं, दो मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग भी सकते में आ गया है और मामले की जांच शुरू कर दी है। विभाग ने ऑपरेशन करने वाले निजी अस्पताल की राशि भी रोक दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कुटबासी पंचायत के निवासी प्यार सिंह की आंख की नजर कम हो गई है। प्यार सिंह व उसके तीमारदार मोनु ने बताया कि उसकी आंख में जाला आ गया था और कैंप में दो फरवारी को ऑपरेशन करवाया था। इस के बाद तबीयत खराब होने लगी और रोशनी कम होने लगी। उन्होंने बताया कि इस के बाद निजी अस्पताल के डॉक्टरों को दिखाया तो डॉक्टरों ने दोबारा ऑपरेशन करने वाली टीम को दिखाने को कहा। पीड़ित ने बताया कि जब गंगथ में लगे कैंप में दिखाया तो डॉक्टर कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।


  • अब कुटबासी पंचायत निवासी को महंगा पड़ा ऑपरेशन करवाना
  • दो मामले आने के बाद स्वास्थ्य महंगा भी सकते में, जांच शुरू

गौर रहे कि  सिविल अस्पताल फतेहपुर में गत 23 जनवरी से 5 फरवरी तक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा बहु विशेषज्ञ शल्य चिकित्सा शिविर का आयोजन करवाया गया था। इसमें देश की राजधानी के एक अस्पताल की टीम ने विभिन्न-विभिन्न बीमारियों के ऑप्रेशन किए थे। लेकिन, पंचायत सुनहारा के गांव टकबाल की गरीब विधवा नीलमा देवी को आंखों का ऑप्रेशन करवाना परेशानी भरा रहा था।  शिविर की टीम द्वारा बुजुर्ग नीलमा देवी की लेफ्ट आंख का ऑप्रेशन कर आधे घंटे बाद घर भेज दिया व 15 दिन बाद अस्पताल में चैक करवाने को कहा, लेकिन ऑप्रेशन के बाद आंख की रोशनी धुंधली होती चली गई। कैंप के दौरान लोगों को हो रही समस्याओं से अब ऑपरेशन करवाने वाले लोग सहमे हुए हैं।

वहीं, क्षेत्र के बुद्धिजीवी लोगों ने उच्चतरीय जांच की मांग की है।  बीएमओ फतेहपुर सुरेंद्र भारद्वाज का कहना है कि कैंप लगाने वाली टीम को स्थानीय अस्पताल प्रबंधक ने ओटी सहित एक्स-रे,अल्ट्रासोउड व टेस्ट की सुविधा दी थी। आई टीम अपने स्तर पर कार्य करती है। संबंधित अस्पताल की राशि रोक दी गई है। कार्रवाई जारी है। विभाग इन लोगों से संपर्क बनाए हुए है। वहीं, सीएमओ कांगड़ा का कहना है कि मामले पर कार्रवाई की जा रही है। कहा चुक हुई है, इस बारे में जांच की जा रही है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है