Covid-19 Update

1,98,877
मामले (हिमाचल)
1,91,041
मरीज ठीक हुए
3,382
मौत
29,548,012
मामले (भारत)
176,842,131
मामले (दुनिया)
×

अनुराग की क्लास में PGI के अधिकारियों ने साधी चुप्पी, क्या है मामला-जाने

पीजीआई सेटेलाइट सेंटर निर्माण में देरी से अनुराग हुए खफा

अनुराग की क्लास में PGI के अधिकारियों ने साधी चुप्पी, क्या है मामला-जाने

- Advertisement -

ऊना। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Union Minister of State for Finance Anurag Thakur) ने आज जिला ऊना में निर्माणाधीन पीजीआई सेटेलाइट सेंटर (PGI Satellite Center) को लेकर पीजीआई के अधिकारियों और जिला प्रशासन के साथ वर्चुअली समीक्षा बैठक की। इस दौरान अनुराग ठाकुर ने पीजीआई सेटेलाइट सेंटर के निर्माण को लेकर जहां फीडबैक लिया, वहीँ निर्माण में देरी को लेकर पीजीआई (PGI) के अधिकारियों को जमकर क्लास लगाई। उन्होंने पीजीआई सेटेलाइट सेंटर ऊना के निर्माण में हो रही देरी पर नाराजगी जताई। है। पीजीआई अस्पताल के निर्माण पर आज हुई वर्चुअल समीक्षा बैठक में अनुराग ठाकुर ने पूछा कि मई 2019 में अस्पताल का शिलान्यास (Foundation Stone) होने के बाद पीजीआई के अधिकारी कितनी बार ऊना गए। शिलान्यास होने के बाद अब तक स्पॉट पर निर्माण में क्या-क्या हुआ।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में इस दिन से होगा E-PTM का आयोजन, शिक्षा मंत्री ने दी जानकारी

बैठक के दौरान उनके तीखे सवालों पर पीजीआई के अधिकारियों ने चुप्पी साध ली। बैठक में उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के एक बहुत बड़े क्षेत्र के निवासियों को इस पीजीआई अस्पताल का लाभ मिलना है, लेकिन निर्माण में देरी की वजह से ऊना (Una) ही नहीं कई जिलों के निवासियों को अभी भी इलाज के लिए चंडीगढ़ जाना पड़ रहा है। अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीजीआई तथा टेंडर प्राप्त करने वाली अपने प्रतिनिधियों को ऊना में तैनात करें, ताकि वह जिला प्रशासन के साथ निरंतर संपर्क में रहकर निर्माण कार्य में तेजी लाएं। उन्होंने बैठक में उपस्थित डीसी ऊना राघव शर्मा (DC Una Raghav Sharma) को 15 दिन में एक बार पीजीआई के अधिकारी के साथ-साथ कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करने के निर्देश दिए।


 

 

वहीँ बैठक में विशेष रूप से उपस्थित रहे छठे राज्य वित्तायोग सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि 450 करोड़ रुपए की लागत से ऊना में बनने वाले पीजीआई अस्पताल के निर्माण में राज्य सरकार अपना दायित्व निभा रही है। प्रदेश सरकार ने सड़क, बिजली व पानी जैसी सुविधाएं जुटाने के लिए 12.80 करोड़ रुपए का बजट प्रदान कर दिया है। उन्होंने कहा कि पीजीआई के अधिकारी बताएं, उन्हें राज्य सरकार व जिला प्रशासन से क्या सहयोग चाहिए, मैं उसे पूरा करने का दायित्व लूंगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है