Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,210,799
मामले (भारत)
117,078,869
मामले (दुनिया)

हिमाचल: ‘चोटी’ की ओर खिसक रहे सेब के बगीचे, मंडराया खतरा

हिमाचल: ‘चोटी’ की ओर खिसक रहे सेब के बगीचे, मंडराया खतरा

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश में सेब के बगीचे ‘चोटी’ की ओर खिसक रहे हैं। जिसके चलते पूरी दुनिया में मशहूर हिमाचल के सेबों पर अस्तित्व का खतरा मंडराने लगा है। दरअसल प्रदेश में जलवायु परिवर्तन के चलते कुल्‍लू, शिमला और मंडी जिलों में पैदा होने वाला सेब अब ऊंचाई वाले इलाकों जैसे किन्‍नौर, लाहौल और स्‍पीति घाटी में पैदा होने लगे हैं। बताया गया कि सेब की खेती निचले इलाकों में लगभग लगभग बंद ही हो चुकी है।

सेब पर हावी होता मशरूम

भारत के सेब का कटोरा कहे जाने वाले हिमाचल प्रदेश के कोटागढ़ में सेबों का कारोबार कभी चिंता की बात नहीं रही। लेकिन सेबगढ़ कहे जाने वाले कोटागढ़ की यह पहचान अब खत्‍म हो रही है। यहां सर्दी कम होने की वजह से सेब के स्‍वाद में भी बदलाव आ रहा है। सेब के बागान भी गर्मी को महसूस कर रहे हैं और जलवायु परिवर्तन का असर स्‍पष्‍ट रूप से दिखाई पड़ रहा है। यहां क्ले किसानों ने अब सेब की खेती छोड़ मशरूम जैसे अन्य चीजों की खेती करने लगे हैं।

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है