×

Arun @ Virbhadra: तिहाड़ जेल में परिवार एवं Vakamulla संग लड़ेंगे चुनाव

Arun @ Virbhadra: तिहाड़ जेल में परिवार एवं Vakamulla संग लड़ेंगे चुनाव

- Advertisement -

बड़सर। सीएम वीरभद्र सिंह अपने विधानसभा क्षेत्र से कभी खुद लड़ने की बात करते हैं तो कभी अपने बेटे विक्रमादित्य सिंह को वहां से दावेदार बताते हैं। जबकि हकीकत यह है कि सीएम वीरभद्र सिंह बाकामुल्ला संग तिहाड़ जेल में चुनाव लड़ेंगे। यह शब्द नेता विपक्ष प्रेम कुमार धूमल के पुत्र अरूण धूमल ने बड़सर में युवा संकल्प सम्मेलन में उपस्थित युवाओं को संबोधित करते हुए कहे। अरूण धूमल ने इस दौरान अपने संबोधन में सीएम वीरभद्र सिंह पर तीखे प्रहार किए। अरूण ने कहा कि सीएम वीरभद्र सिंह का लक्की नंबर पांच है तो तिहाड़ में भी वह इसी लक्की नंबर के साथ होंगे। वीरभद्र सिंह, बाकामुल्ला, प्रतिभा सिंह, विक्रमादित्य सिंह और आनंद चौहान यह पांचों मिलकर आपस में चुनाव लड़ेंगे।


  • विक्रमादित्य का भी वही होगा चुनाव क्षेत्र, प्रतिभा-आनंद चौहान भी होंगे साथ
  • शिक्षण संस्थानों की गिनती बढ़ाने की बजाए शिक्षा की गुणवत्ता पर ध्यान दे सरकार
  • युवाओं से किया मनरेगा और बेरोजगारी भत्ते की दौड़ से आगे बढ़ने का आग्रह 

उन्होंने शिक्षा के स्तर में उत्थान पर बल देते हुए कहा की प्रदेश सरकार को शिक्षण संस्थानों की गिनती बढ़ाने की बजाए शिक्षा की गुणवत्ता पर ध्यान देना चाहिए। अच्छे स्तर की शिक्षा युवाओं को काबिल बनाएगी जिससे वह स्वरोजगार, रोजगार, कारोबार या फिर आविष्कार करने के काबिल बनेंगे। कांग्रेस की शिक्षा निति को घेरते हुए उन्होंने कहा की कांग्रेस की निति हमेश से यही रही है की बच्चा स्कूल में कभी फेल नहीं होना चाहिए चाहे वह जीवन में फेल हो जाए, जबकि शिक्षा निति ऐसी होनी चाहिए की स्कूल में चाहे कोई जितनी बार भी फेल हो जाए लेकिन जीवन में फेल नहीं होना चाहिए। मनमोहन को दस साल रही खिचड़ी और मनरेगा की चिंता युवाओं को क्षेत्र के विकास में सहयोग देने के लिए सही नेता चुनने का संकल्प दिलाते हुए उन्होंने कहा की किसी भी व्यक्ति को खुद का या फिर क्षेत्र का विकास करने के लिए तीन चीजें आवश्यक है संकल्प, अवसर और संघर्ष।

उन्होंने कहा की विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत की और आज पूरी दुनिया देख रही है क्यूंकि भारत में 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम आयु की है। सब सोच रहे हैं क्या भारत इस युवा शक्ति को भारत को विश्वशक्ति बनाने के उर्जा स्तोत्र में बदल पाएगा। उन्होंने कांग्रेस की यूपीए सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा की मनमोहन सिंह को दस साल बस खिचड़ी, मनरेगा और 2 रुपए गेहूं व 3 रुपए चावल की चिंता रही। उन्होंने देश के भविष्य के लिए यही कार्यक्रम निर्धारण किया था की स्कूलों में जाकर खिचड़ी खाओ, बड़े होकर मनरेगा में दिहाड़ी लगाओ फिर उससे 2 रुपए किलो गेहूं और 3 रुपए किलो चावल मिलेगा। कांग्रेस सरकार जब जब बनी उन्होंने बेरोजगारी भत्ते जैसे प्रलोभन देकर युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ किया है। उन्होंने युवाओं से आह्वान करते हुए कहा की सब मिल कर संकल्प लो की अपनी क्षमताओं को बढ़ाएंगे और मनरेगा और बेरोजगारी भत्ते जैसे प्रलोभनों की दौड़ से आगे बढ़ेंगे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है